PIC: Twitter
PIC: Twitter

    -सीमा कुमारी

    सनातन हिंदू धर्म में पूजा-पाठ के लिए पान के पत्तों का बहुत ही अधिक महत्व है। आपने देखा होगा, हर पूजा पाठ में भगवान को पान के पत्ते जरूर अर्पित किए जाते हैं। ईश्वर का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए उन्हें चढ़ाई गई चीजों में पान के पत्तों का काफी महत्व है। वहीं, वास्तु में भी पान से जुड़े कई ऐसे उपाय बताए गए हैं, जिन्हें करने से व्यक्ति के जीवन में धन की कमी दूर होती है और परेशानियां खत्म हो जाती हैं। ऐसे में आइए जानें पान से जुड़े विशेष उपायों के बारे में –

    कहा जाता है कि मंगलवार या शनिवार को स्नान करने के बाद हनुमान मंदिर में जाकर उन्हें पान अर्पित करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। ऐसा माना जाता है कि पान चढ़ाने से हनुमान जी अपने भक्तों के कष्ट हर लेते हैं और उन्हें हर परेशानी से मुक्ति दिलाते हैं।

    अगर बनते काम रुक जाते हैं और कई कोशिशों के बावजूद काम नहीं बन पाता, तो हर रविवार को पान का एक पत्ता लेकर घर से बाहर निकलिए। जब घर से बाहर कदम निकाले तो जेब में पान का पत्ता रख लें। इससे रुके हुए काम धीरे धीरे बनने के योग बनने लगते हैं।

    ज्योतिष-शास्त्र के अनुसार, अगर घर में हर वक्त लड़ाई झगड़ा और कलह का माहौल रहता है, तो हर शाम पान के पत्ते पर कपूर रखकर जलाकर पूरे घर में घुमाएं और ईष्ट देव से सुख शांति की कामना करें। इससे घर में सुख शांति होगी और सकारात्मकता बढ़ेगी।

    कहते हैं कि, भगवान भोलेनाथ को पान चढ़ाने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।  खासकर, सावन महीने या सोमवार के दिन गुलकंद से बना पान, सुपारी का चूरा, सौंफ और कत्था भगवान शंकर को अर्पित करना चाहिए।

    बिजनेस या नौकरी में परेशानी होने पर शनिवार के दिन 5 पीपल के पत्ते और 8 पान के साबूत डंडीदार पत्ते लेकर उन्हें एक ही धागे में पिरो दें और बंदनवार की तरह दुकान में पूर्व दिशा की ओर बांध दें। हर शनिवार ये काम करें और पुराने पत्तों को किसी नदी बहते जल में प्रवाहित कर दें। इससे नौकरी और बिजनेस की दिक्कतें खत्म होने लगती हैं।