जानें खतरनाक बीमारी ब्रेन ट्यूमर के लक्षण

    Loading

    -सीमा कुमारी

    आज समूची दुनिया ब्रेन ट्यूमर  (Brain Tumor) जैसी जानलेवा बीमारी से जूझ रहा है। यह एक ऐसी बीमारी है, अगर समय रहते इसका सही इलाज नहीं किया गया तो रोगी की मौत तक हो सकती है। ब्रेन ट्यूमर की शुरुआत होने पर व्यक्ति के शरीर में कुछ आम लक्षण नजर आने लगते हैं, जैसे- हमेशा सिरदर्द (Headache), उल्टी आना (Vomiting), अचानक आखों में धुंधलापन आना और शरीर के किसी भाग में कमजोरी आदि होना। ये ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor Symptoms) के लक्षण भी हो सकते हैं।

    ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) कोशिकाओं को अनियंत्रित तरीके से बढ़ना है। यह जानलेवा भी हो सकता है। अगर आपको भी ऐसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो बिना देरी किए न्यूरो सर्जन से अवश्य सलाह करें। लेकिन कुछ मामलों में ये लक्षण किसी अन्य बीमारी के कारण भी हो सकते हैं। इसलिए ब्रेन ट्यूमर को समझना और उसके लक्षणों को जानना बेहद ज़रूरी है। विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) के आंकड़ों पर नजर डालें, तो पूरी दुनिया में प्रतिदिन ब्रेन ट्यूमर के एक लाख मरीजों में से 10 मरीजों की मौत हो जाती है। जहां तक भारत का सवाल है तो देश में हर साल ब्रेन ट्यूमर के 50 हजार नए मरीज सामने आ रहे हैं। ऐसे में जरूरी है कि समय रहते हुए इसकी पहचान कर ली जाए। आइए जानें इसके लक्षण और उपचार… 

    हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, ‘ब्रेन ट्यूमर’ किसी भी उम्र में हो सकता है। आमतौर पर इस बीमारी का  प्रमुख कारण खराब खान-पान और नशीली चीजों का सेवन करना होता है। लेकिन कई बार यह जेनेटिक भी हो सकता है।

    विशेषज्ञों का मानना हैं कि ब्रेन ट्यूमर के कुछ शुरुआती लक्षण होते हैं। 

    सिर के अलग-अलग हिस्से में एक पैटर्न में दर्द होना। धीरे-धीरे यह दर्द लंबे समय तक और तेज उठता है। शरीर में बिना किसी कारण के कंपन होना। किसी अंग में सुन्नपन होना बिना किसी कारण उल्टी होना, जी मिचलाना बोलने और सुनने में परेशानी होना। ब्रेन ट्यूमर होने पर मांसपेशियों में ऐंठन महसूस होती है। बेहोशी भी इसका एक लक्षण हो सकती है।

    ब्रेन ट्यूमर दो प्रकार के होते हैं-

    1 प्राइमरी

    2 सेकंडरी

    • प्राइमरी ट्यूमर वे हैं जो किसी अन्य अंग से मस्तिक तक पहुंचता है।
    • सेकंडरी ब्रेन ट्यूमर, प्राइमरी की तुलना में अधिक होते है। करीब 40 फीसदी ब्रेन ट्यूमर शरीर के अन्य भागों से मस्तिष्क तक पहुंचते हैं।

    ब्रेन ट्यूमर का इलाज-

    ब्रेन ट्यूमर का उपचार आमतौर पर सर्जरी से शुरू होता है, जिसका उद्देश्य ज़्यादा से ज़्यादा ट्यूमर को हटाना होता है। उपचार के अगले चरण में, रोगी को कीमोथेरेपी और रेडियोथेरेपी से गुज़रना पड़ता है। जिसका उद्देश्य ट्यूमर कोशिकाओं को नष्ट करना है, जो सर्जरी के बाद छुट गई होती हैं।