जानें क्यों मनाया जाता है विश्व समुद्री दिवस, इसका इतिहास और थीम

    नई दिल्ली : हर साल 30 सितंबर को पूरी दुनिया में ‘विश्व समुद्री दिवस’ (World Maritime Day) यह दिन मनाया जाता है। कई देशों में यह दिन 24 सितंबर को मनाया जाता है। लेकिन ज्यादातर लोग यह दिन दिसंबर के आखिरी गुरुवार को मनाते है। इस दिन को मनाने के पीछे एक महत्वपूर्ण उद्देश्य भी है। आज ‘विश्व समुद्र दिवस’ के अवसर पर इससे जुड़ी अहम जानकारी देते है…. 

    ‘विश्व समुद्र दिवस’ का उद्देश्य 

    इस दिवस का उद्देश्य समुद्री वातावरण की सुरक्षा, समुद्री उद्योग तथा शिपिंग सुरक्षा के प्रति लोगों को जागरूक करना है। इसलिए हर साल पुरे विश्व में समुद्र के महत्व को समझते हुए इस दिन को मनाया जाता है। 

    ‘विश्व समुद्र दिवस’ का इतिहास 

    ‘विश्व समुद्र दिवस’ का इतिहास जानना हम सकबे लिए बेहद जरुरी है। समुद्र पर्यावरण का एक महत्वपूर्ण अंग है, जो पर्यावरणीय गतिविधियां संभालने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार समुद्र का जन्म लगभग 50 करोड़ से 100 करोड़ वर्षो के बीच में हुआ है। ऐसा अनुमान लगाया जाता है की जब ज्वालामुखी फटी और उसमें से जो लावा निकला है वो तो चट्टान बन गई। और जो गढे हुऐ है वो सब आज समुद्र है। यानी जब लावा फटा तो पृथ्‍वी जाने कितने हजारो वर्षो में यह ठंडी हुई और इस पर लगातार वर्षा होती थी।

    तो बारिश का पानी इन सभी गड्ढों में एकत्रित होता गया जो धीरे-धीरे एक विशाल समुद्र व महासागर का रूप ले लिया। आज समुद्र का विस्तार पूरी पृथ्वी पर 70.92 प्रतिशत पर फैला हुआ है और भू-भाग केवल 29 प्रतिशत पर फैला है जिस पर यह दुनिया निवास कर रही है।वैसे वर्ग किलोमीटर में दिख जाए तो समुद्र लगभग 36,17,40,000 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है।

    जिसमें से सबसे विशाल महासागर प्रशांत महासागर है जिसका क्षेत्रफल 16,64,40,000 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। यह महासागर विश्व को सबसे गहरा और सबसे बड़ा सागर है। जिसकी औसत गहराई करीब 3939 मीटर है। इन समुद्रो के बीचो बीच में बहुत से टापू और आईलैंड बसे हुए है।

    ‘विश्व समुद्र दिवस 2021’ की थीम 

    इस साल विश्व समुद्री दिवस 2021 ( World Maritime Day 2021) की थीम है- समुद्री समुदाय में महिलाओं को सशक्त बनाना (Empowering women in Maritime community) है। इस वर्ष विश्व समुद्री दिवस का विषय संयुक्त राष्‍ट्र को सतत विकास को महत्व और जागरूक बनाना है। जिससे समुद्री क्षेत्र में महिलाओं बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान रहे। इस तरह यह दिन इस विशेष विषय के साथ मनाया जाने वाला है।