भगवान गणेश के विसर्जन से पहले जान लें पूजा की विधि, इस शुभ मुहूर्त में करें ये कार्य

    नई दिल्ली : हम सब जानते है जैसे गणेश चतुर्थी के दिन भगवान गणेश की स्थापना की जाती है, उसी तरह 10 दिन के बाद यानी अनंत चतुर्थी के दिन बप्पा को विदाई दी जाती है, जिसे हम गणेश विसर्जन कहते है। कहां जाता है की जैसे हम हमारे घर में रहते है वैसे ही बप्पा को भी उनके घर यानी कैलास में जाने के लिए विदाई दी जाती है। बप्पा हमारे घर एक मेहमान स्वरूप आते है दस दिन के बाद उन्हें उनके घर जाने के लिए विदाई देना जरूरी होता है।

    वैसे तो गणेश विसर्जन यह पल सबके लिए बेहद भावुक होने वाला होता है। न चाहते हुए भी बप्पा को जाते देखकर हमारी आंखे नम हो जाती है और चेहरा मायूस हो जाता है। चलों हम बड़ो को छोड़ो लेकिन छोटे बच्चे बप्पा को जाते देख जोर-जोर से रोतें है। आपको बता दें कि जैसे गणेश स्थापना का शुभ मुहूर्त महत्वपूर्ण होता है वैसे ही गणेश विसर्जन भी शुभ मुहूर्त में होना चाहिए।    

    गणेश विसर्जन शुभ मुहूर्त 2021 :

    आपको बता दें कि पंचांग के अनुसार गणेश विसर्जन यानी अनंत चतुर्दशी तिथि नुसार इस साल 19 सितंबर 2021 को है। 

    गणेश विसर्जन विधि :

    1. सबसे पहले लकड़ी का एक पाठ लें, उसे गंगाजल से अच्छी तरह साफ कर लें।

    2. इसके बाद गहरी की महिलाएं इस पर कुमकुम से स्वास्तिक बनाएं।

    3. फिर इस लकड़ी के पाठ पर लाल,पीला, गुलाबी रंग का नया कपड़ा बिछाएं

    4. पाठ पर नया कपड़ा बिछाने के बाद इस पर चावल के अक्षत रखे।

    5. इसके बाद इसपर गणेश जी की मूर्ति विराजमान करें।

    6. फिर इस पाठ पर फल फूल और मोदक रखें।

    7. इसके बाद उन्हें फूलों का हार चढ़ाएं और विधिवत पूजा करें।

    8. पूजा होने के बाद उन्हें भोग लगाएं।

    9. इसके बाद एक लाल कपड़े में मोदक और दूर्वा रखें इसकी पोटली बांधकर बाप्पा के हाथ पर लटकाएं।

    10. इसके बाद बाप्पा के जयकारे गायें उन्हें हाथ जोड़कर प्रार्था करें।

    11. फिर अपने घर में ही एक बड़े बर्तन में पानी ले और इसमें बप्पा की मूर्ति विसर्जित करें।

    12. ध्यान रहे इस प्रक्रिया को करते वक्त पर्यावरण को किसी भी तरह का नुकसान न पहुंचे।