सूर्य ग्रहण के दिन इन ‘वस्तुओं’ का करें दान, जीवन में आएगी सुख-समृद्धि

    सीमा कुमारी

    नई दिल्ली: 2021 का अंतिम ‘सूर्य ग्रहण’ 4 दिसंबर शनिवार को लग रहा है। इस दिन ‘शनि अमावस्या’ यानी, ‘शनिचरी अमावस्या’ भी है। ज्योतिष-शास्त्र के अनुसार, ‘सूर्यग्रहण’ और ‘शनि अमावस्या’ का एक ही दिन पड़ना अद्भुत संयोग है, क्योंकि धार्मिक ग्रंथों के मुताबिक, शनि देव को सूर्य का पुत्र कहा जाता है।

    यदि सूर्य और शनि दोनों ग्रह एक साथ प्रसन्न हों, तो बहुत ही उत्तम रहेगा। इसलिए शनि और सूर्य दोनों के लिए दान करना आवश्यक है। शनि के प्रभाव से पीड़ित लोगों के लिए यह अमावस्या बहुत महत्वपूर्ण है।

    इसी के साथ मान्यता है कि इस दिन दान करने से पितरों को संतुष्टि मिलती है और हमारी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। आइए जानते हैं कि ‘सूर्य ग्रहण’ के दौरान किन चीजों का दान करना चाहिए –

    ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, ‘सूर्य ग्रहण’ के दौरान जूते का दान करना चाहिए। इससे जीवन में समृद्धि का आगमन होता है। कहते है कि, जूते का दान करने से राहु-केतु का प्रभाव कम होता है।

    धार्मिक मान्यता है कि, ग्रहण काल में कंबल का दान करना शुभ माना जाता है। इससे करियर और कारोबार को नया आयाम मिलता है। अगर कारोबार में अस्थिरता है, तो अमावस्या के दिन काले कंबल का दान अवश्य करें।

    ऐसा कहा जाता है कि, ‘अमावस्या’ के दिन दान करने से पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसके लिए ‘शनिचरी अमावस्या’ के दिन अन्न-जल का दान अवश्य करें। आप असहाय लोगों को आर्थिक सहायता भी दे सकते हैं।

    ग्रहण के समय और बाद में गाय को चारा और पक्षियों को दाना खिलाना बहुत ही शुभ माना जाता है |

    सूर्य ग्रहण में गरीबों एवं जरूरतमंदों को यथाशक्ति तथा भक्ति भाव से दान-पुण्य करें। इसके पुण्य प्रताप से अमोघ फलों की प्राप्ति होती है। साथ ही पितरों को मोक्ष मिलता है।