बेलपत्र न म‍िले तो शिवलिंग पर चढ़ाएं ये दाल, महादेव को ऐसे करें प्रसन्न

    – सीमा कुमारी 

    हिंदू धर्म (Hindu Religion) में सावन (Sawan Somvar) का महीना भगवान शिव (Lord Shiva) को समर्पित है। सावन महीने में भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। भगवान भोलेनाथ को बेलपत्र, धतूरा और अलग-अलग फूल अतिप्रिय होने से इसे खास तौर पर चढ़ाया जाता है। लेकिन, अगर ये चीजें न हों, तो आप कुछ विशेष अनाज चढ़ाकर भी भगवान शिव की असीम कृपा पा सकते हैं।

    ‘शिवपुराण’ में महादेव को दाल समेत अलग-अलग चीजेेें अर्पित करने के बारे में कहा गया है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इसे चढ़ाने से जीवन की समस्याएं दूर होकर सुख-समृद्धि, खुशहाली का आगमन होता है। आइए जानें उन अनाज के बारे में-

    • ज्योतिष-शास्त्र के मुताबिक, जो जातक संतान-सुख की प्राप्ति करना चाहते हैं, वे सावन के दौरान शिवलिंग पर गेहूं चढ़ाएं। मान्यता है कि इससे भगवान शिव जल्दी प्रसन्न होते हैं और उनकी कृपा से संतान- सुख की प्राप्ति होती है।
    •  मान्यता है कि रोजाना सुबह शिव जी पर अरहद दाल या इसके पत्ते चढ़ाने से जीवन के दुखों का नाश होता है। ऐसे में घर-परिवार में सुख-समृद्धि व खुशहाली का आगमन होता हैै।
    • शिवलिंग पर बेलपत्र या फूल की जगह काले तिल अर्पित किया जा सकता है। मान्यता है कि इससे जीवन के समस्त कलह-क्लेश दूर हो जाते हैं। मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य बेहतर होता है। इसके साथ अचानक आने वाली परेशानियों से भी बचाव रहता है।
    • वास्तु-शास्त्र की मानें तो, किसी भी पूजा में अक्षत यानि चावल चढ़ाने का विशेष महत्व है। वहीं शिव पूजा में खासतौर पर अक्षत चढ़ाएं जाते हैं। लेकिन इसके लिए इस बात का खास ध्यान रखें कि चावल टूटे न हों। पूजा में इस्तेमाल होने वाले चावल एकदम साबुत होने चाहिए। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, अक्षत चढ़ाने से शिवजी के साथ धन की देवी लक्ष्मी की भी असीम कृपा मिलती है। इससे घर में अन्न व धन की बरकत बनी रहती है।
    •  भगवान शिव को मूंग दाल भी बेहद प्रिय होती है। ऐसे में आप रोजाना शिव पूजा में इसे चढ़ा सकते हैं। इससे जीवन की समस्याएं दूर होकर मनोकामनाओं की पूर्ति होगी। आप इस उपाय को रोजाना की जगह पर सावन के हर सोमवार में भी कर सकते हैं।

    इन सभी उपायों को सदहृदय और निश्छल भाव से करने से भगवान भोलेनाथ की असीम कृपा होती है।