अहोई अष्टमी के शुभ असवर पर इन संदेशों के जरिए अपनों को दें बधाइयां

    नई दिल्ली : हर साल करवाचौथ के चार दिन बाद अहोई अष्टमी का त्यौहार हमारे पुरे देश में मनाया जाता है। बता दें कि हर साल यह त्यौहार कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है। जिस तरह करवाचौथ महिलाओं के लिए बेहद खास होता है ठीक उसी तरह अहोई अष्टमी भी महिलाओं के लिए बहुत खास होती है। आपको बता दें कि इस दिन महिलाएं अपने संतान के सलामती के लिए और उनके खुशियों के लिए निर्जल व्रत करती है। इस व्रत में रात को तारों के दर्शन के बाद ही वो अपना व्रत समापन करती है। 

    इस साल अहोई अष्टमी 28 अक्टूबर यानी गुरुवार को है। इस शुभ दिन पर अपनों को बधाइयां देना तो बनता है। इसलिए आज हम अहोई अष्टमी पर रिश्तेदारों और दोस्तों को बधाइयां देने के लिए कुछ खास सुबह संदेश लाएं हैं। 

    सबसे पहले माता की पूजा

    सब कुछ उसके बाद

    यही दुआ है हम सब की

    माता का सदा रहे आर्शीवाद

    अहोई अष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं 

     

    मां अहोई का व्रत है आज

    एक एक तारा देखूं आज

    अर्घ्य दिया मैंने आपको मां आज

    कर दो अब जीवन साकार

    अहोई अष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं 

     

    हर साल आता है अहोई अष्टमी का त्यौहार

    मनाये खुशियों से हर बार

    बढ़ाता है ये मां बच्चो का प्यार

    अहोई अष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं 

     

    जितने भी है जहा पे, उन्ही के लाल है सारे

    उनके ही इशारों पर चलते, ये चांद और सितारे

    पल भर के लिए ही सही माँ को याद कीजिये

    होगी पूरी तमन्ना जरा फरियाद तो कीजिये

    अहोई अष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं 

    अहोई अष्टमी के पावन पर्व पर अपने दोस्तों तथा रिश्तेदारों को इस दिन इस शुभ संदेश द्वारा बधाइयां दें।