इस दिन है ‘कार्तिक पूर्णिमा’, जानें पवित्र स्नान का शुभ मुहूर्त

    -सीमा कुमारी

    सनातन हिन्दू धर्म में ‘कार्तिक पूर्णिमा’ (Kartik Purnima) का बहुत अधिक महत्व है। इस साल कार्तिक पूर्णिमा 19 नवंबर, यानी अगले शुक्रवार को है। इसी दिन कार्तिक महीने का समापन भी हो जाएगा। ज्योतिष-शास्त्र के मुताबिक, कार्तिक  महीने के शुक्ल पक्ष में आने वाली पूर्णिमा ‘कार्तिक पूर्णिमा’ कहलाती है। इस पूर्णिमा को ‘त्रिपुरी पूर्णिमा’ (Tripuri Purnima) के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान और दीपदान करने की विशेष परंपरा भी है। इस दिन देवी-देवताओं को खुश करने का दिन होता है। 

    इसीलिए इस दिन लोग पवित्र नदियों में डुबकी लगाकर और दान-दक्षिणा करके पुण्य कमाते है. इसके साथ ही इस दिन हवन, दान, जप, तप आदि धार्मिक कार्यों का भी विशेष महत्व बताया गया है। ऐसा माना जाता है कि, इस दिन कार्तिक स्नान करने और भगवान श्री हरि विष्णु की पूजा करने से भक्तों को अपार सौभाग्य की प्राप्ति होती है। आइए जानें इस वर्ष कब है कार्तिक पूर्णिमा व इसकी पूजा विधि और शुभ मुहूर्त:

    शुभ-मुहूर्त 

    ‘कार्तिक पूर्णिमा’ की तिथि- 19 नवंबर

    पूर्णिमा तिथि आरंभ-

    18 नवंबर को रात 12 बजकर 02 मिनट से आरंभ

    पूर्णिमा तिथि समाप्त-

    19 नवंबर को दोपहर  2 बजकर 29 मिनट तक

    पूजा-विधि

    कार्तिक पूर्णिमा के दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करना चाहिए। अगर संभव हो सके तो पवित्र नदी में स्नान करके व्रत का संकल्प करें। उसके बाद लक्ष्मी-नारायण की देसी घी का दीपक जलाकर विधि विधान से पूजा करें। इस दिन सत्यनारायण की कथा करने एवं सुनने से भी भगवान विष्णु का आशीर्वाद भक्तों पर सदैव बना रहता है। भगवान विष्णु को इस दिन खीर का भोग लगाना चाहिए। वहीं इस दिन शाम को लक्ष्मी-नारायण की आरती करके तुलसी जी के पास घी का दीपक जलाना चाहिए। कार्तिक पूर्णिमा के दिन घर में भी दीपक जलाना चाहिए।  इस दिन हो सके तो गरीबों को दान दें और भूखों को भोजन कराने से विशेष शुभ फल की प्राप्ति होती है।

    ‘कार्तिक पूर्णिमा’ का महत्व

    पौराणिक कथाओं के मुताबिक, कार्तिक पूर्णिमा का पावन दिन धार्मिक और आध्यात्मिक रूप से बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योंकि, शुभ एवं पावन दिन देवी-देवताओं को प्रसन्न करने का दिन होता है। इसीलिए इस दिन लोग पवित्र गंगा में डुबकी लगाकर और दान-दक्षिणा करके पुण्य कमाते हैं। कार्तिक स्नान करने और भगवान विष्णु की पूजा करने से भक्तों को अपार सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

    मान्यता है कि, इस दिन किसी पवित्र नदी या जलकुंड में स्नान करना बहुत ही शुभ माना जाता है। साथ ही इस दिन दान-पुण्य के कार्य और दीपदान भी करना शुभ माना जाता है।