National Productivity Day 2024, Lifestyle News
राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस 2024 (सोशल मीडिया)

Loading

सीमा कुमारी  

नवभारत डिजिटल टीम: आज 12 फरवरी को राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस 2024 (National Productivity Day 2024) के रूप में मनाया जाता हैं इस दिवस को हर साल देश की उत्पादकता और उसमें बढ़ावा देने के उद्देश्य से आवश्यकता के अनुसार राष्ट्रीय जागरूकता बढ़ाने के लिए किया जाता है। धीरे-धीरे उत्पादकता को लेकर सार्वजनिक स्तर पर बढ़ावा देने के लिए इस दिन को मनाने की पहल की गई है। राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद (NPC) का मुख्य उद्देश्य देश के सभी क्षेत्रों में उत्पादकता और गुणवत्ता जागरूकता को प्रोत्साहित करना और बढ़ावा देना है।

यही नहीं, यह दिन आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और नागरिकों के जीवन की समग्र गुणवत्ता को बढ़ावा देने में उत्पादकता की महत्वपूर्ण भूमिका को याद भी दिलाता है, जो निरंतर ही प्रगति और उन्नति के लिए देश की प्रतिबद्धता पर जोर देता है। ऐसे में आइए जानें राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस, इसके इतिहास, इसकी थीम और इसे कैसे मनाया जाता है,

उत्पादकता को है समर्पित दिन

जानकारों के अनुसार, ‘राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस’ अच्छी उत्पादकता आदतों के निर्माण के महत्व को स्वीकार करने के लिए समर्पित एक दिन है। यह भारत में हर साल 12 फरवरी को मनाया जाने वाला दिन है। इस दिन की शुरुआत भारत सरकार की राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद द्वारा नागरिकों के बीच उत्पादकता को बढ़ावा देने के लिए की गई थी।

राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस इस बात पर विचार करने का दिन है कि आप अपनी उत्पादकता कैसे सुधार सकते हैं। यह दूसरों को भी स्वस्थ उत्पादकता की आदतें बनाने के लिए प्रोत्साहित करने का दिन हो सकता है। राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस इस बात पर भी प्रकाश डालता है कि अपनी उत्पादकता पर काम करने से आपके काम की समग्र गुणवत्ता बढ़ सकती है।

इस दिन हुई थी परिषद् की स्थापना

राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस की स्थापना राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद (एनपीसी) द्वारा की गई थी। यह भारत में एक राष्ट्रीय संगठन है जो उत्पादन को बढ़ावा देता है। राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद भारत सरकार के अधीन आती है और इसकी स्थापना 1958 में हुई थी। यह एक गैर-लाभकारी संगठन है जो स्वतंत्र, बहुपक्षीय है और 1860 के सोसायटी पंजीकरण अधिनियम XXI के तहत पंजीकृत है।

एनपीसी एशियाई उत्पादकता संगठन (एपीओ) का भी सदस्य है, जो टोक्यो स्थित एक अंतर-सरकारी संगठन है, जिसकी भारत सरकार संस्थापक सदस्य है। राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद उत्पादकता, प्रतिस्पर्धात्मकता, राजस्व, सुरक्षा और गुणवत्ता में सुधार करने में मदद के लिए एक समाधान प्रदान करती है।

राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस थीम 2024

राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस 2024 का थीम ‘इनोवेट’ है। जिसका अर्थ उच्च दिखना, ऊंचा उठाना, नए-नए टेक्नोलॉजी को विकसित करना और आगे बढ़ते रहना है। यह थीम सभी समुदायों को आगे लाने, सतत और न्यायसंगत विकास हासिल करने के लिए आवश्यक सामूहिक रूप से प्रयास पर जोर देती है।

 महत्व

राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद (एनपीसी) भारत को विश्व नेता बनाना चाहती है। इस दिन का महत्व उत्पादकता को एक समग्र धारणा के रूप में प्रस्तुत करना है जो केवल उत्पादन बढ़ाने के तरीके के बजाय पर्यावरणीय समस्याओं, मानव संसाधन विकास और गुणवत्ता पर विचार करता है।

एनपीसी एक सर्वव्यापी अवधारणा के रूप में उत्पादन के महत्व पर भी जोर देती है। यह सप्ताह व्यक्तियों को उत्पादकता उपकरणों का उपयोग करने और वर्तमान मुद्दों को शामिल करने के लिए भी शिक्षित करता है।

 राष्ट्रीय उत्पादकता सप्ताह मनाने का उद्देश्य

* उत्पादकता उपकरणों के उपयोग को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता के बारे में जागरूकता बढ़ाना।

वर्तमान, प्रासंगिक विषयों को शामिल करके प्रक्रियाओं में सुधार करना।

*राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस उत्पादकता, गुणवत्ता, दक्षता और प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ावा देता है।

व्याख्यानों, कार्यशालाओं और उच्च गुणवत्ता वाले आयोजनों के माध्यम से जागरूकता बढ़ाएँ।

*सेमिनार अभियान आयोजित करें, और उचित तरीकों से उत्पादकता बढ़ाने और पुरस्कारों की ओर प्रेरित करने के बारे में जानकारी प्रदान करें।