कोरोना संबंधित : अब विदेश में पढाई करना होगा आसान, जानिए किन देशों ने हटाया भारतीय छात्रों से यात्रा का प्रतिबंध

    नई दिल्ली : पिछले एक वर्षों से अधिक चल रही इस कोरोना महामारी से सभी क्षेत्रों को प्रभावित कर रखा है। फिर चाहें ट्रेवल हो या स्कुल, कॉलेज हर जगह प्रतिबंध लग गए थे। लेकिन अब कम हो रहे कोरोना के मामलों को देखते हुए दुनिया के सभी देश धीरे-धीरे करके सभी क्षेत्र से पाबंदियां हटा रही है और इसमें ट्रेवल क्षेत्र भी शामिल है। गुरुवार को सरकार ने कहां कि अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन और जर्मनी सहित कई देशों द्वारा भारतीय छात्रों के लिए यात्रा प्रतिबंधों में ढील दी जा रही है और कोरोना वायरस की स्थिति में सुधार होने पर और अधिक देशों से ऐसा करने की उम्मीद है। 

    जाने विदेश मंत्री वी मुरलीधरन ने क्या कहां 

    राज्यसभा में अपनी बात रखते हुए विदेश मंत्री वी मुरलीधरन ने कहां कि सरकार विदेशी विश्वविद्यालयों में नामांकित भारतीय छात्रों के लिए यात्रा प्रतिबंधों में ढील देने के प्रयास कर रही है। इसके चलते अब भारतीय छात्र विदेश में आसानी से पढाई कर सकेंगे। भारत पर दूसरी लहर का कहर मंडराते देखकर कई देशों ने भारतीयों के लिए यात्रा प्रतिबंध लगा दिए थे। राज्यसभा में चल रहे प्रश्नकाल के दौरान उन्होंने एक प्रश्न के उत्तर में कहां “मंत्रालय (MEA) विदेशी विश्वविद्यालयों में नामांकित भारतीय छात्रों के लिए संबंधित देशों की यात्रा को संभव बनाने के लिए, जहां कहीं भी हो, यात्रा प्रतिबंधों में ढील देने के प्रयास कर रहा है “

     

    मंत्री ने कहा, “विदेश में हमारे मिशन इन मुद्दों को संबंधित सरकारों के साथ सक्रिय रूप से उठा रहे हैं और उन सरकारों पर यात्रा प्रतिबंधों को कम करने के लिए प्रभावित कर रहे हैं ” उन्होंने कहा कि यात्रा प्रतिबंधों का मुद्दा कई देशों के साथ मंत्री स्तर पर उठाया गया है। उन्होंने कहा, “भारतीय छात्रों के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, यूके, आयरलैंड, जर्मनी, नीदरलैंड, बेल्जियम, लक्ज़मबर्ग, जॉर्जिया, आदि सहित कई देशों की यात्रा करने के लिए यात्रा प्रतिबंधों में ढील दी जा रही है. वहीं अगर स्थिति में सुधार होता है, तो कोविड के समय और अधिक देशों के खुलने की उम्मीद है। 

    विदेश में भारतीयों का कल्याण 

    मुरलीधरन ने कहा कि छात्रों सहित विदेशों में भारतीयों का कल्याण सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। महामारी से लड़ने के एक अलग सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सरकार के प्रयासों को प्रभावी ढंग से लड़ने के साथ-साथ इसके प्रभावों को कम करने पर ध्यान केंद्रित किया गया है। उन्होंने कहा, “अपने राष्ट्रीय प्रयासों और अंतरराष्ट्रीय सहयोग के माध्यम से, भारत चल रही महामारी से लड़ने की कोशिश कर रहा है। देश में कोरोना वायरस महामारी की एक से अधिक लहरें आई है” मुरलीधरन ने कहा, “इन उभरती परिस्थितियों में, सरकार द्वारा दिए गए बयान भारत के राष्ट्रीय प्रयासों, अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और महामारी की मौजूदा / वर्तमान स्थिति पर केंद्रित हैं”