दुनिया का पहला तैरने वाला शहर, पहली झलक आई सामने, आप भी देखें तस्वीरें

    नई दिल्ली: दुनिया में टेक्नोलॉजी इतनी विकसित हो गई है कि इंसान जो चाहे वो हासिल कर सकता है। भला आप भी नहीं सोच सकते कि कोइ ऐसा शहर हो जो बस पानी पर तैरते ही रहे। जी हां लेकिन ऐसा शहर है जो अब बनने जा रहा है। जिसके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे। आइए जानते है दुनिया के उस पहले तैरते शहर के बारे में सबकुछ….. 

    पानी में तैरता शहर 

    आपको बता दें कि दुनिया का पहला तैरने वाला शहर दक्षिण कोरिया के बुसान शहर में बनाया जा रहा रहा है। बता दें कि समुद्र तट के किनारे में बनाए जाने वाले इस शहर का पूरा निर्माण 2025 तक कर लिया जाएगा। इसकी आधिकारिक घोषणा कर दी गई है। यह शहर बनने के बाद कैसा दिखेगा, इसकी कुछ तस्वीरें जारी की गई हैं। जिसे देखकर आप भी उस तैरते शहर में बसने की चाह रखेंगे।  

    पानी में लगेगा मार्किट 

    जारी किये गए इस प्रोजेक्ट रिपोर्ट के मुताबिक, इस शहर में छोटे-छोटे आइलैंड तैयार किए जाएंगे, जिसमें इंसान रहेंगे। इतना ही नहीं बल्कि यह शहर अपने लिए खाना खुद तैयार करेगा। साथ ही यहां साफ पानी की पूरी व्यवस्था होगी। खरीदारी के लिए पानी में मार्केट लगेगा। खरीदार बोट के जरिए एक आइलैंड से दूसरे आईलैंड का सफर करेंगे। और इस तरह आम लोगों वस्तुओं को खरीद सकेंगे।

     

    सुरक्षित होगा तैरता शहर 

    दरअसल प्रोजेक्ट रिपोर्ट में दावा किया गया है कि संयुक्त राष्ट्र के सपोर्ट से बनने वाले इस शहर में बाढ़ का खतरा नहीं होगा। पानी में बनाए जाने वाले आइलैंड बाढ़ के खतरे को कम करेंगे। यह शहर अपनी बिजली खुद बनाएगा, इसके लिए सोलर पैनल का इस्तेमाल किया जाएगा। इस तरह ये तैरता शहर स्वयं निर्भर रहेगा। खाने से लेकर बिजली तक वह खुद बनाएगा। 

    लगेंगे इतने पैसे 

    इस अविश्वसनीय शहर को बनाने में बहुत पैसा लगने वाला है आपको बता दें कि इस पूरे शहर को तैयार करने में 1500 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। इसके लिए बुसान मेट्रोपॉलिटन सिटी ऑफ रिपब्लिक ऑफ कोरिया, यूएन हैबिटेट और न्‍यूयॉर्क की डिजाइनिंग फर्म ओश‍ियानिक्‍स के बीच करार हुआ है। इस तैरने वाले शहर में रहने के लिए लोगों से कितना चार्ज लिया जाएगा इसकी आधिकारिक घोषणा फिलहाल नहीं की गई है। 

    ऐसे होगा खानपान 

    इस शहर के आइलैंड में खानपान की व्यवस्था कैसे होगी, इसका जवाब इसे डिजाइन करने वाली फर्म ओशियानिक्‍स ने दिया है। फर्म का कहना है, शहर में सीफूड और प्लांट बेस्ड डाइट से तैयार होने वाला खाना मिलेगा। आइलैंड में घरों को तैयार करने के लिए स्‍थानीय स्‍तर पर मिलने वाली चीजों का इस्तेमाल किया जाएगा। जैसे- बांस और आदि चीजें जो वहां मौजूद होगी। 

    पानी से जुड़े रहने की कोशिश 

    आपको बता दें कि इस शहर में कई आइलैंड होंगे, जो हेक्सागोनल आकार के होंगे। इनमें ही इंसानों के रहने की व्यवस्था होगी। यूएन हैबिटेट के एक्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर मइमुन्‍नाह मोहम्‍मद शरीफ कहते हैं, जलवायु जिस तरह से बदल रही है उसके मुताबिक रहने का नया तरीका तैयार किया जा रहा है। पानी से डरने या लड़ने की जगह हम उसके करीब रहने की कोशिश में जुटे हैं। बता दें कि यह खूबसूरत पानी में तैरता शहर 2025 तक बनकर तैयार हो जायेगा।