If your child is stubborn, then handle this way
File Photo

    -सीमा कुमारी

    हर माता-पिता चाहते हैं कि वह अपने बच्चों की इच्छाएं पूरी कर सकें। लेकिन, बच्चे थोड़ी-बहुत जिद्द तो करते ही हैं। लेकिन, ये जिद्द हद से ज्यादा बढ़ जाए, तो मां-बाप के लिए परेशानी बन जाती है। ऐसे में गुस्सैल और जिद्दी बच्चे को संभालना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। ऐसे में अगर आप भी अपने बच्चे की जिद्द से परेशान हैं, तो वास्तु से जुड़े कुछ उपायों को अपनाकर बच्चों के व्यवहार में परिवर्तन ला सकते हैं। आइए जानते हैं इन उपायों के बारे में –

    ज्योतिष-शास्त्र के मुताबिक, बुधवार के दिन हरी वस्तु का दान करना व गाय को हरा चारा खिलाना शुभ माना जाता है। इससे ज्ञान में वृद्धि होती है। ऐसे में आप इस दिन अपने बच्चों के ये काम करवा सकते हैं।

    कहते हैं कि बच्चे के स्टडी रूम में मोर, वीणा, पुस्तक, कलम, हंस, मछली आदि के चित्र लगाएं। इससे कमरे में पॉजीटिविटी फैलेगी। ऐसे में बच्चे का मन शांति व उत्साह से भरा रहेगा। अगर वह अपने कमरे में ही पढ़ता है तो आप इनमें से कोई भी चित्र उसके कमरे में लगा सकते हैं।

    अगर आपका बच्चा ज्यादा जिद्दी है, तो उसके गले में अश्वगंधा का छोटा सा टुकड़ा ताबीज में बांधकर  पहनाएं। इसके अलावा बच्चे को ज्यादा मसालेदार खाना ना खिलाएं।

    वास्तु-शास्त्र के अनुसार, हरा रंग शांति, एकाग्रता व खुशहाली का प्रतीक माना जाता है। ऐसे आप अपने बच्चे में ये गुण डालने के लिए उसके कमरे में हरा रंग करवा सकते हैं। आप चाहें तो कमरे का फर्नीचर, पर्दे भी हरे रंग के रख सकते हैं। इसके अलावा इस बात का ध्यान रखें कि कमरे में पड़ा फर्नीचर खराब या टूटा नहीं होना चाहिए।

    सरस्वती माता ज्ञान की देवी कहलाती हैं। ऐसे में आप अपने बच्चे को प्रतिदिन मां सरस्वती की आराधना करवाएं। आप चाहे तो उनके कमरे या स्टडी रूम में सरस्वती माता का कोई चित्र या प्रतिमा भी लगा सकते हैं। इसके साथ ही किसी भी काम में बच्चे से जबरदस्ती करने से बचें। इससे बच्चा और भी जिद्दी हो सकता है।