Mumbai: Police personnel tell fraud of Rs 30,000, three people arrested

सिवनी (मध्यप्रदेश). मध्य प्रदेश पुलिस ने तेंदुओं का शिकार करने के मामले में सिवनी में चार लोगों को गिरफ्तार कर उनके पास से तेंदुए के पंजे, खाल एवं हड्डियां बरामद की हैं। सिवनी जिले के पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक ने शनिवार को बताया कि तेंदुए के पंजे बेचने की फिराक में घूम रहे व्यक्तियों की जानकारी पुलिस को मुखबिर से मिली थी। उन्होंने कहा कि सूचना पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कमलेश खरपुसे ने अनुविभागीय अधिकारी पुलिस पारुल शर्मा के मार्गदर्शन में कोतवाली पुलिस थाना प्रभारी महोदव नागोतिया सहित पुलिस बल को सिविल ड्रेस में ग्राहक बनाकर मौके पर भेजा और चार आरोपियों को तेंदुए के चार पंजों के साथ शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया।

प्रतीक ने बताया कि पूछताछ में आरोपियों ने दो माह पहले सिवनी जिले के धूमा की खूबी बीट के जंगल में गुफा में धुआंकर तेंदुए का शिकार करने की बात कबूल की है। उन्होंने बताया कि धुएं से गुफा में मौजूद तेंदुआ बेहोश हो गया था। इसके बाद आरोपियों ने धारदार कुल्हाड़ी से तेंदुए के पंजे एवं सिर काटकर खाल उतार ली और हड्डी व अवशेष घरों में छिपा दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर तेंदुए की खाल, सिर का कंकाल, हड्डियां व शिकार में उपयोग कुल्हाड़ी जब्त की है। बरामद किये गये तेंदुए के अंगों की कीमत करीब 10 लाख रुपये आंकी गई है। प्रतीक ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों में शंभूलाल पंद्रे (32), रामकुमार काकोड़िया (32), नरेश काकोड़िया एवं नंदूलाल उइके (31) शामिल हैं। उन्होंने कहा कि आरोपियों के खिलाफ वन्यप्राणी संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत मामला दर्ज किया गया है और विस्तृत जांच जारी है।