Congress will send 11 bricks of silver for construction of Ram temple: Kamal Nath
File Photo

भोपाल/ ग्वालियर. कांग्रेस नेता कमलनाथ ने दावा किया है कि मध्यप्रदेश में मार्च में कांग्रेस की सरकार गिराकर सत्ता में आई भाजपा ने वास्तव में उससे चार माह पहले ही कांग्रेस के विधायकों के साथ ‘‘सौदेबाजी” शुरु कर दी थी।

ग्वालियर में मंगलवार को उपचुनाव की एक रैली को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा, “मैंने सरकार के लिये सौदेबाजी नहीं की क्योंकि मैंने हमेशा स्वच्छ राजनीति की है।कांग्रेस सरकार गिराने के (मार्च माह) चार महीने पहले से ही सौदेबाजी चल रही थी।”

उन्होंने कहा कि संविधान निर्माता बाबा साहब अंबेडकर ने भी नहीं सोचा होगा कि सौदेबाजी के कारण एक-दो नहीं बल्कि 28 सीटों पर उपचुनाव होंगे। उन्होंने कहा कि इसमें से ज्यादातर सीटें ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में हैं। उनके अनुसार इस राजनीतिक सौदेबाजी ने ग्वालियर-चंबल को कलंकित किया है और तीन नवंबर को जो मतदान होगा, उससे मध्यप्रदेश के भविष्य और स्वच्छ राजनीति का आचरण तय होगा।

ग़ौरतलब है कि मार्च में कांग्रेस के 22 विधायकों द्वारा त्यागपत्र देने के बाद भाजपा में शामिल होने से कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिर गयी थी और इसके बाद शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा की सरकार सत्ता में आई।

भोपाल में प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा कि कमलनाथ का बयान चेहरा बचाने वाला कार्य है, दरअसल वह सत्ता में रहते हुए अपनी पार्टी के विधायकों को साथ रखने में विफल रहे थे। मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं। इनमें से 16 सीटें ग्वालियर-चंबल इलाके में हैं। उपचुनाव के तहत तीन नवंबर को मतदान और दस नवंबर को मतों की गणना होगी। (एजेंसी)