shivraj singh chauhan

इंदौर. कांग्रेस आलाकमान पर सीधा वार करते हुए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को कहा कि सूबे की जनता के साथ इस पार्टी की कथित ‘गद्दारी’ की शुरुआत तभी हो गयी थी, जब उसने 2018 का पिछला विधानसभा चुनाव जीतने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया की जगह कमलनाथ को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठा दिया था।

मुख्यमंत्री, इंदौर से 40 किलोमीटर दूर सांवेर विधानसभा क्षेत्र में कुल 2,664 करोड़ रुपये की लागत के विकास कार्यों के लोकार्पण और भूमिपूजन समारोह को संबोधित कर रहे थे। इनमें नर्मदा नदी से जुड़ी लगभग 2,400 करोड़ रुपये की सिंचाई परियोजना शामिल है। सांवेर क्षेत्र में प्रस्तावित उपचुनाव से पहले आयोजित इस समारोह में मौजूदा राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद थे।

चौहान ने कार्यक्रम में कहा, “पिछले विधानसभा चुनावों के दौरान मतदाताओं ने सिंधिया का चेहरा देखकर कांग्रेस को वोट दिए थे, लेकिन चुनावी जीत मिलने पर कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी और उनके बेटे राहुल गांधी ने सिंधिया की जगह कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाकर जनता से “गद्दारी” की शुरुआत कर दी।”

उन्होंने कांग्रेस पर तंज किया, “बेटी का वैवाहिक संबंध किसी और व्यक्ति से तय किया गया, शहनाई किसी और व्यक्ति के नाम की बजाई गई, घोड़े पर किसी और व्यक्ति को बैठाया गया और मंगल गान किसी और व्यक्ति के नाम के गाये गए, लेकिन बारात जब दुल्हन के घर पहुंची, तो फेरे किसी और व्यक्ति के साथ लगवा दिए गए।”

गौरतलब है कि सिंधिया के नेतृत्व में कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के विधानसभा से त्यागपत्र देकर भाजपा में शामिल होने के कारण तत्कालीन कमलनाथ सरकार का 20 मार्च को पतन हो गया था। इसके बाद चौहान के नेतृत्व में भाजपा 23 मार्च को सूबे की सत्ता में लौट आयी थी।

आगामी विधानसभा उप चुनावों के तेज होते प्रचार के दौरान सिंधिया और छह महीने पहले उनके साथ पाला बदलने वाले बागी विधायकों को कांग्रेस द्वारा “गद्दार” बताया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए आरोप लगाया कि पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार ने सूबे के लाखों किसानों को कर्ज माफी योजना और फसल बीमा योजना के लाभ से वंचित कर अन्नदाताओं के साथ “गद्दारी” की।

चौहान ने किसानों को लुभाते हुए कहा कि अगर केंद्र सरकार की मंजूरी मिलती है, तो अगले साल राज्य सरकार की फसल बीमा योजना पेश की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कमलनाथ द्वारा उनके लिये “नालायक” शब्द के हालिया इस्तेमाल पर भी जवाबी हमला बोला। उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने मुख्यमंत्री रहने के दौरान किसानों, गरीबों, विद्यार्थियों, प्रसूताओं आदि वर्गों के हित में अपनी पूर्ववर्ती भाजपा सरकार की शुरू की गईं योजनाएं बंद कर दीं, लेकिन अब 73 वर्षीय कांग्रेस नेता खुद को “लायक” और उन्हें “नालायक” बता रहे हैं। (एजेंसी)