Digvijay

भोपाल. कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh)के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने शनिवार को कहा कि चुनाव आयोग (Election Commission) का काम स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराना है न कि राज्य सरकारों को कथित भ्रष्टाचार (Corruption) के लिए अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज करने का निर्देश देना। सिंह ने यह टिप्पणी चुनाव आयोग द्वारा मध्य प्रदेश सरकार को चार पुलिस अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई करने के लिए कहने के कुछ दिनों बाद आज शनिवार को यहां पत्रकार वार्ता में की।

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड की एक रिपोर्ट में 2019 लोकसभा चुनावों के दौरान राज्य में अनधिकृत और बेहिसाब नकदी लेनदेन में सरकारी कर्मचारियों की प्रथम दृष्टया भूमिका की ओर इशारा किया गया था। इसके बाद चुनाव आयोग ने मध्यप्रदेश सरकार को यह निर्देश दिये थे।

सिंह ने संवाददाताओं से कहा, “हमें इस बात का दुख है कि चुनाव आयोग, जिसे निष्पक्षता से काम करना चाहिये। किसी भी अच्छे प्रजातंत्र की व्यवस्था में केन्द्रीय चुनाव आयोग की निष्पक्षता संदेह से परे होना चाहिये। इस मामले में नहीं लगता कि यह संदेह से परे है, क्योंकि उन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है, जिनका चुनाव संचालन में कोई लेना देना नहीं था।”

उन्होंने कहा, “चुनाव आयोग को चुनाव कैसे कराना है, वहीं तक उसकी सीमाएं हैं। किस अधिकारी पर भ्रष्टाचार का प्रकरण, ये निर्देश देने का अधिकार चुनाव आयोग का नहीं है। मैं केन्द्रीय चुनाव आयोग से आग्रहपूर्वक कहूंगा कि आपकी निष्पक्षता पर संदेह नहीं होना चाहिये, लेकिन इस प्रकार के आदेश होंगे, तो संदेह होगा।”