पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का बड़ा ऐलान, कहा- अब मैं आराम करने को तैयार

छिंदवाडा: मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेता कमल नाथ (Kamal Nath) ने बड़ी घोषणा की है। सोमवार को अपने गढ़ छिंदवाडा (Chhindwada) के सौंसर विधानसभा क्षेत्र में आयोजित एक सभा में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “मैं आराम करने के लिए तैयार हूं। मुझे किसी पद की कोई आकांक्षा या कोई लालच नहीं है। मैंने पहले ही बहुत कुछ हासिल कर लिया है। मैं घर पर रहने के लिए तैयार हूं।” 

ज्ञात हो कि मार्च 2020 में सिंधिया के जाने के बाद सरकार गिरने और बाद में हुए उपचुनाव में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस के अंदर कमलनाथ को लेकर सवाल उठने लगे थे। पार्टी के कई नेताओं में उपचुनाव में मिली हार के लिए उनके द्वारा लिए एक तरफ़ा फैसले को जिम्मेदार बताया। इसी के साथ शीर्ष नेतृत्व पर किसी युवा को नेता बनाने और बागडोर सौंपने की मांग कई बड़े नेता कर चुके हैं।

बचाव में उतरी कांग्रेस

कलानाथ के इस बयान के बाद कांग्रेस के नेता बचाव में उतर गई है। पूर्व मंत्री और उनके करीबी नेता पीसी शर्मा ने कहा, “नेता प्रतिपक्ष के बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है।” उन्होंने कहा, “2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव हम उन्हीं के नेतृत्व में लड़ने वाले हैं।”

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री के मीडिया कोर्डिनेटर नरेंद्र सलूजा ने कहा, “प्रदेश की जनता एक बार फिर उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं. कार्यकर्ताओं को संबोधन में कमलनाथ ने कहा जब जनता कहेगी तो वह राजनीति से संन्यास लेंगे।” 

उनका निर्णय हमें कुछ नहीं कहना 

कांग्रेस नेता के इस बयान पर राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “हमने किसी को भी राजनीति से संन्यास लेने को नहीं कहा।” उन्होंने कहा, “उन्हें संन्यास लेना या घर पर बैठना है वह उनका निर्णय है, हमें इसपर कुछ नहीं कहना।”

ज्ञात हो कि 73 वर्षीय कमलनाथ पिछले 40 साल से ज्यादा समय से राजनीति में है. इस दौरान वह छिंदवाडा से आठ बार सांसद रहे. इसी के साथ कई बार केंद्रीय मंत्री भी रहे. 2017 में उन्हें मध्यप्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया. जिसके बाद वह सत्ता में आई कांग्रेस सरकार में मुख्यमंत्री बने. लेकिन फिर सिंधिया समर्थक विधायकों के इस्तीफा देने के बाद उनकी सरकार गई गई. वर्तमान में वह मध्यप्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष के साथ साथ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी हैं.