jyotiraditya-scindia-Jai Vilas Palace-in-gwalior-attacked-by-thieves-and-robbery-happen-gwalir-policde-investigation-continues

महल की सिक्योरिटी टीम को बुधवार को इस चोरी के बारे में पता चला।

    मध्यप्रदेश. भाजपा के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के महल में चोरी हुई है। सिंधिया ग्वालियर के शाही परिवार से ताल्लुक रखते हैं। वहीं, उनके ग्वालियर के जय विलास पैलेस (Jai Vilas Palace) में चोरों ने चोरी की है। ग्वालियर पुलिस द्वारा इस मामले की पुष्टि की गई है। 

    चोर सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के महल जय विलास पैलेस में स्थित रानी महल में छत के रास्ते अंदर घुसे थे। इस महल में काफी टाइट सिक्योरिटी रहती है। ऐसे में चोरों का रानी महल के रिकॉर्ड रूम तक पहुंचना काफी हैरानी की बात है। चोरो ने रिकॉर्ड रूम में रोशनदान के रास्ते एंट्री ली वहां रखे दस्तावेजों को खंगाला और फिर वहां से एक पंखा और कंप्यूटर (Computer) का CPU चुरा कर ले गए।

    महल की सिक्योरिटी टीम को बुधवार को इस चोरी के बारे में पता चला। उन्होंने तुरंत पुलिस को इस बात की जानकारी दी। यह पहला मामला नहीं है। आज से 10 साल पहले भी जयविलास पैलेस में चोरी हुई थी। वहीं, हैरानी की बात है कि उस वक्त भी चोरी रिकॉर्ड रूम में हुई थी और कुछ दस्तावेज गायब हुए थे, लेकिन चोर नहीं पकड़े गए थे।

    मालूम हो कि, रानी महल में जब भी कोई सिंधिया (Scindia) परिवार से आता है तो उसकी फोटोग्राफ लेकर रखी जाती है। इसके बाद इन्ही फोटोग्राफ के जरिए बाद में मिलान किया जाता है कि सभी चीजें अपनी जगह हैं या नहीं। वहीं, बुधवार को एक फाइल की जरूरत पड़ी। लेकिन, वह फाइल अपनी जगह पर नहीं मिली। जिसके बाद फोटोग्राफ से मिलान किया गया तो पता चला यहां चोरी हुई है। वहीं, स्टोर में लगा एक पंखा भी गायब था और फाइलें भी इधर उधर रखी हुई थी। इसके साथ ही रिकॉर्ड रूम की अलमारी का ताला भी तोडा गया था।

    चोरी के बारे में पता चलते ही पुलिस की फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम और फिंगर प्रिंट टीम ने वहां पहुंचकर जांच की। पुलिस के मुताबिक, यह चोरी किसी डॉक्यूमेंट की तलाश हुई है। इसीलिए रेकॉर्ड रूम के अंदर सारे डॉक्यूमेंट इधर-उधर बिखरे हुए मिले थे। वहीं जो पंखा और कम्प्यूटर का CPU गायब हुआ था वह पुलिस को महल की छत पर ही पड़ा मिला।ग्वालियर एसपी ने बताया कि, पुलिस इस मामले में जांच कर रही हैं और जल्द ही चोरों को पकड़ लिया जाएगा।

    मालूम हो कि जय विलास पैलेस 19वीं सदी में राजा जयजीराव सिंधिया द्वारा बनवाया गया था। जयजीराव सिंधिया साल 1874 में ग्वालियर के तत्कालीन महाराज थे और यह महल वर्तमान में उनकी पीढ़ी के ज्योतिरादित्य सिंधिया के पास है।