Names decided, cabinet expansion will happen soon, just waiting for the center's green signal
शिवराज कैबिनेट शपथ ग्रहण (फाइल फोटो)

भोपाल: शिवराज सरकार की कैबिनेट विस्तार को लेकर चल रही अटकलों को एक बार फिर हवा मिल गई है, जिसे खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दी है. दरअसल बुधवार को उन्होंने पत्रकार से बात करते हुए कहा, ‘कैबिनेट को लेकर सारी बात हो चुकी है, आने वाले कुछ दिनों में केंद्रीय नेतृत्व से बात करने के पश्च्यात विस्तार किया जाएगा.’

कैबिनेट विस्तार को लेकर हुई बैठक 
पिछले कई महीनों से कैबिनेट विस्तार को लेकर चर्चा शुरू है. इसी को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह, प्रदेश अध्यक्ष वी.डी.शर्मा और संगठन मंत्री सुहास भगत के बीच मंत्रालय में दो घंटे लंबी बैठक हुई, जिसमें कैबिनेट के नामों पर विस्तार से चर्चा की गई. मिली जानकारी के अनुसार इस बैठक में नाम तय कर लिए गए है, जिसे बस केंद्रीय नेतृत्व की मुहर लगने का इंतजार है, जैसे ही केंद्रीय समिति हरी झंडी देगी तुरंत कैबिनेट विस्तार कर दिया जाएगा. 

राज्यपाल लालजी टंडन का अस्वस्थ होना सबसे बड़ी रुकावट
कैबिनेट विस्तार की सबसे बड़ी रुकावट राज्यपाल लालजी टंडन का अस्वस्थ होना है. पिछले दिनों उनका लखनऊ के एक प्राइवेट अस्पताल में ऑपरेशन हुआ है, जिसके बाद उनका जल्दी स्वस्थ्य होना कठिन है. अब बिना राज्यपाल के कैबिनेट विस्तार करना असंभव है. सचिवालय से आरही जानकरी के अनुसार राज्यपाल लालजी टंडन के स्वस्थ होने तक छत्तीसगढ़ के राज्यपाल को मध्यप्रदेश का अतिरिक्त प्रभार दिया जा सकता है. 

इन में से बन सकते है मंत्री: 
कैबिनेट विस्तार में इन नामों से बन सकते है मंत्री जिसमें- भूपेंद्र सिंह, गोपाल भार्गव, रामपाल सिंह, यशोधरा राजे सिंधिया, अजय विश्नोई, गौरीशंकर बिसेन, संजय पाठक, विश्वास सारंग, केदार शुक्ला, गिरीश गौतम, अरविंद भदौरिया, विजय शाह, ओमप्रकाश सकलेचा, जगदीश देवड़ा, यशपाल सिंह सिसोदिया, हरिशंकर खटीक, प्रदीप लारिया, पारस जैन, रमेश मेंदोला, गोपीलाल जाटव, मोहन यादव और सुरेंद्र पटवा, पूर्व मंत्री इमरती देवी, महेंद्र सिंह सिसोदिया, प्रद्युमन सिंह तोमर, प्रभुराम चौधरी, ऐंदल सिंह कंषाना, हरदीप सिंह डंग, बिसाहू लाल सिंह, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव और रणवीर जाटव शामिल है.