एमपी में अब गैर राशन कार्ड धारकों को मिलेगा एक रुपये किलो चावल, गेहूँँ

भोपाल: मध्यप्रदेश में होने वाले उप चुनाव में जीत सुनिश्चित करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार बड़ी-बड़ी घोषणाएँ कर रहे हैं. गुरुवार को मुख्यमंत्री ने घोषणा कि, “राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत, ऐसे परिवार के प्रत्येक सदस्य जो गरीब हैं, लेकिन जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, उन्हें 1 सितंबर से गेहूँँँँ, नमक और चावल  1 रुपये प्रति किलो के साथ ही मिट्टी तेल 1.5 रुपये प्रति लीटर मिलेगा।”

ज्ञात हो कि जल्द ही राज्य की 27 विधानसभा सीटों पर उप चुनाव होने वाले हैं, जिसको जीतने के लिए मुख्यमंत्री और भाजपा ने अपना पूरा ज़ोर लगाया हुआ है. बुधवार को मुख्यमंत्री ने ट्रंप कार्ड खेलते हुए अब तक की सबसे बड़ी घोषणा की है. जिसके बाद अब राज्य की सरकारी नौकरियों पर सिर्फ प्रदेश के युवाओं का हक़ होगा. यानि अब राज्य में पढ़ने वाले ही सरकारी नौकरी पाने में पात्र होंगे. अन्य राज्यों के लोगों को नौकरी नहीं मिलेगी.

शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “1 रुपये में 5 किलोग्राम अतिरिक्त अनाज भी नवंबर तक दिया जाएगा। इसके साथ, 10 किलोग्राम खाद्यान्न वितरित किया जाएगा, जिसका अर्थ है कि यदि किसी परिवार में 5 सदस्य हैं, तो उस परिवार को 50 किलोग्राम राशन मिलेगा.”

ग़ौरतलब है कि, मार्च में ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हो गए थे. जिसके बाद उनके समर्थक, छह मंत्री समेत 22 विधायकों ने भी विधानसभा से इस्तीफ़ा दे दिया था. जिसके बाद कमल नाथ सरकार गिर गई थी. बाद में फिर शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा ने सरकार बनाई और सिंधिया समर्थक सभी विधायक भाजपा में शामिल हो गए थे.