Oxygen Cylinder

    भोपाल: कोरोना वायरस (Corona Virus संक्रमण से इस वक्त पूरा देश जूझ रहा है। इस महामारी ने हर जगह कोहराम मचा रखा है। सभी हर तरह से परेशान हैं। इसी का एक उदाहरण मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) में देखने को मिला है जहां प्रदेश के अस्पतालों को ऑक्सीजन (Oxygen) की किल्लत (Shortage) का सामना करना पड़ रहा है।

    राज्य को अब तक गुजरात (Gujarat) से ऑक्सीजन की कमी पूरी करने में मदद मिल रही थी। लेकिन, अब वहां आने वाली लिक्विड (द्रव) ऑक्सीजन की आपूर्ति को रोक दिया गया है। खबरों के अनुसार, पिछले छह दिनों से गुजरात से भोपाल में हो रहा लिक्विड ऑक्सीजन सप्लाई रोक दिया गया है। 

    शहर के सक्रिय ऑक्सीजन विक्रेताओं का कहना है कि यदि गुरुवार तक यह आपूर्ति पूरी नहीं होती है तो 100 से अधिक अस्पतालों को ऑक्सीजन की भारी कमी का सामना करना पड़ेगा। अभी तक गुजरात से मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल को 80 से 100 टन ऑक्सीजन मिल रही थी। वहीं इसके बाद उद्योगों को होने वाली ऑक्सीजन आपूर्ति पर जिला कलेक्टर अविनाश लवानिया ने रोक लगा दी है।

    कलेक्टर ने निर्देश दिया है कि शहर के सभी ऑक्सीजन प्लांट सिर्फ कोविड समर्पित अस्पतालों को ही आपूर्ति करेंगे। जिला कलेक्टर लवानिया ने इस बात की सख्त हिदायत दी है कि शहर के सभी ऑक्सीजन प्लांट 24 घंटे चालू रहने चाहिए और पहले अस्पतालों को, फिर उद्योगों को लिक्विड ऑक्सीजन की आपूर्ति को पूरा करें।