pyare-miyaan

भोपाल. भोपाल (Bhopal) में 17 वर्षीय एक कथित दुष्कर्म (Rape) पीड़िता की बुधवार रात को एक अस्पताल में मौत (Death) हो गयी। दुष्कर्म के इस मामले में एक अखबार का मालिक आरोपी का नाम प्यारे मियां (Pyare Miyaan) है। एक अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि किशोरी ने यहां सरकारी बालिका आश्रय गृह में नींद की गोलियां खा ली थीं, इसके बाद उसे सोमवार रात को गंभीर हालत में सरकारी हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

जिला प्रशासन ने बुधवार को ही इस मामले में न्यायिक जांच के आदेश दिये हैं।हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक डॉ आई डी चौरसिया ने बृहस्पतिवार को बताया कि किशोरी को सोमवार रात को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था, बुधवार रात को उसकी मौत हो गयी। शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है।

क्या है मामला: 

उल्लेखनीय है कि पिछले साल जुलाई में स्थानीय अखबार चलाने वाले प्यारे मियां (68) के खिलाफ पांच नाबालिग लड़कियों के साथ बलात्कार करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया था। पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) उपेन्द्र जैन ने बताया कि जिस लड़की ने सोमवार रात को नींद की गोलियां खाई थीं, वह इन पांच पीड़ित बालिकाओं में से एक थी। उन्होंने बताया कि पीड़ित लड़कियों को सुरक्षा के मद्देनजर सरकारी बालिका आश्रय गृह में रखा गया था, इनमें से दो बालिकाओं की तबीयत सोमवार रात को बिगड़ गई और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

उन्होंने बताया कि इनमें से एक लड़की की हालत बेहद नाज़ुक होने पर सोमवार रात को ही उसे हमीदिया अस्पताल रेफर किया गया था। आईजी ने बताया कि घटना के बाद जिलाधिकारी ने मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही असली तस्वीर सामने आएगी। इस बीच, कमला नगर थाना प्रभारी विजय सिसोदिया ने बृहस्पतिवार को बताया कि अत्यधिक मात्रा में नींद की गोलियों का सेवन करने वाली दुष्कर्म पीड़िता का हमीदिया अस्पताल में उपचार किया जा रहा था लेकिन बुधवार रात को अस्पताल में उसकी मौत हो गयी।

उन्होंने कहा कि यह पता लगाया जा रहा है कि आश्रय गृह में उसे नींद की गोलियां कैसे मिलीं । गौरतलब है कि पिछले साल जुलाई में भोपाल के रातिबाड़ इलाके में पांच लड़कियों के नशे की हालत में घूमने के बाद प्यारे मियां और उसकी साथी स्वीटी विश्वकर्मा (21) के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। मियां पर आरोप है कि उसने नाबालिग लड़कियों का यौन शोषण किया। पुलिस ने बाद में उसे जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार किया था।