shivraj singh chauhan

भोपाल: मध्यप्रदेश सरकार (Madhya Pradesh Government) में मंत्री और डबरा से भाजपा प्रत्याशी इमारती देवी (Imarti Devi) को लेकर कांग्रेस (Congress) नेताओं द्वारा दिए आपत्तिजनक बयान पर विवाद बढ़ता जा रहा है. भाजपा (BJP) इन बयानों को लेकर कमलनाथ (Congress) और कांग्रेस पर हमलावर हो गई है. वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने इमारती देवी के सम्मान में सोमवार को दो घंटे का मौन धरना करने का ऐलान किया है. 

मुख्यामंत्री ने कहा, “मैं मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस नेता कमलनाथ की टिप्पणी के खिलाफ कल सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक दो घंटे का ‘मौन विरोध’ देखूंगा, जिसमें उन्होंने भाजपा नेता इमरती देवी को “आइटम” कहा था. उन्हें अपने बयान पर शर्म आनी चाहिए.”

शिवराज ने कहा, “आज मन व्यथित है. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने हमारी वर्तमान की मंत्री जिन्होंने वर्षों कांग्रेस की सेवा की, जो मजदूर से मंत्री पद तक पहुंची, उनके लिए अपमानजनक शब्दों का प्रयोग किया है .”

महिला का अपमान करने का अधिकार किसने दिया 

शिवराज ने कमलनाथ पर हमला करते हुए कहा, “आज कमलनाथ जी, आज आपने अपने ओछे बयान के द्वारा कांग्रेस की विकृत और घृणित मानसिकता का फिर परिचय दिया. आपने श्रीमती इमारती देवी ही नहीं, ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की एक-एक बेटी और बहन का अपमान किया है! कमलनाथ जी, आपको किसी भी महिला के सम्मान के साथ खिलवाड़ करने का अधिकार किसने दिया?.”

मैं प्रायश्चित जरूर करूंगा

अपने मौन धरना के बारे में उन्होंने कहा, ‘अपने बयान पर वो प्रायश्चित करेंगे या नहीं, लेकिन मैं प्रायश्चित जरूर करूंगा. मुझे आश्चर्य होता है कि मैं भी मुख्यमंत्री हूं, रहा भी हूं. मैंने कभी ऐसा अपमान नहीं किया. मन आत्मगिलानी से भरा हुआ है. कल (सोमवार) दो घंटे का मौन धरना व्रत गांधी जी की प्रतिमा पर भोपाल में करूंगा.’

ज्ञात हो कि डबरा विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी के प्रचार के लिए पहुंचे कमलनाथ ने एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, “सुरेंद्र राजेश हमारे उम्मीदवार हैं, सरल स्वभाव के सीधे साधे हैं.हमारा उम्मीदवार उसके जैसा नहीं है … उसका नाम क्या है? (लोग इमरती देवी, जो पूर्व राज्य मंत्री हैं चिल्लाते हैं) आप उन्हें बेहतर जानते हैं और मुझे पहले ही चेतावनी देनी चाहिए. यह क्या आइटम है.” वहीं कांग्रेस अन्य नेता अरुण सिंह ने उन्हें जलेबी कर कर संबोधित किया.