‘मोदी’ पर लगी 70 लाख की बोली, बिकेगा ‘इतने’ करोड़ में

सांगली. क्या आपने कभी सुना है कि बाजार में किसी बकरे की बोली लाखों रूपये लगी है ? अगर नहीं सुना है, तो यह सच है। महाराष्ट्र के सांगली जिले में ‘मोदी’ नाम से प्रसिद्ध एक बकरे की कीमत करोड़ों रूपये रखी गई है। इसपर अब तक 70 लाख रूपये तक की बोली लग चुकी है। आखिर इस बकरे में ऐसा क्या खास है? जिसकी चर्चा सभी ओर हो रही है।

पशुओं की मांग बढ़ी

पिछले आठ महीनों से तालाबंदी के कारण सब कुछ ठप सा पड़ा था, इसलिए आटपाडी के पशु बाजार का बहुत नुकसान हुआ है। साथ ही उस समय कोरोना के डर से लोगों ने चिकन खाना बंद कर दिया था। जिसके कारण बकरे के मांस की डिमांड बढ़ गई। और अब यहां के बाजार की स्थिति भी सामान्य होकर पशुओं की मांग बढ़ गई है। 

लगी 70 लाख रूपये की बोली

महाराष्ट्र और कर्नाटक में कार्तिक पूर्णिमा यात्रा प्रसिद्ध है। इस बीच, कार्तिकी पूर्णिमा के अवसर पर बिक्री के लिए प्रसिद्ध आटपाडी बाजार में बड़ी संख्या में भेड़-बकरियाँ लाई जाती है। इनमें से एक बकरे को कुल 70 लाख रुपये की बोली लगी। यह बकरा सांगोला तालुका के चंदोलवाड़ी के किसान बाबूराव मेटकरी का है, जो इसे 1.5 करोड़ रुपये में बेचना चाहते है।

यह है खासियत 

यह बकरा अपने वजन, ऊंचाई और मजबूत शरीर के कारण सभी का ध्यान आकर्षित करता है। उससे पैदा हुए भेड़ और बकरियों की भी लाखों से बिक्री होती है। इस वजह से, मेटकरी ने इस एक बकरे की कीमत 1.5 करोड़ रुपये बताई है। 

70 लाख में भी नहीं बेचा बकरा

अब आप सोचेंगे कि, इस बकरे में ऐसा क्या खास है? तो इस बकरे को ‘मोदी’ नाम दिया गया है। और इसी नाम के कारण उसके मालिक ने 1.5 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। लेकिन ख़रीदार ने इसके लिए ज्यादा से ज्यादा 70 लाख रुपये देने की बात कही। हालाँकि, मेटकरी को यह भाव पसंद नहीं आया और उन्होंने बकरा बेचने से मना कर दिया।  

अन्य पशुओं पर भी लगती है लाखों की बोली

इसी बाजार में, आटपाडी के सोमनाथ जाधव की भेड़ 13 लाख रुपये में मांगी गई। यह भेड़ प्रसिद्ध मोदी बकरे का बछड़ा है। उन्होंने इसे दो लाख में ख़रीदा था। साथ ही, सोमनाथ जाधव की अन्य तीन भेड़ें किसानों द्वारा नौ लाख रुपये में मांगी गई। कई महीनों के बाद शुरू हुए पशुधन बाजार में अब बकरियों और भेड़ों की बिक्री से किसानों को अच्छा पैसा मिल रहा है।