प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    • अनैतिक मानवी यातायात कक्ष ने की कार्रवाई

    गोंदिया. जिले में सालेकसा पुलिस थाने के तहत नानव्हा निवासी एक नाबालिग (15) को बहला फुसलाकर ले जाने वाले आरोपी को आखिरकार पुलिस ने राज्य के अहमदनगर जिले से गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है.

    उल्लेखनीय है कि नानव्हा निवासी फिर्यादी सुंदरलाल पटले ने उसकी नाबालिग पुत्री को भगा ले जाने की शिकायत 24 फरवरी 2021 को सालेकसा थाने में की थी. इसके आधार पर पुलिस ने अपहरण संबंधी मामला दर्ज किया था. इस प्रकरण की जांच पड़ताल कर फाइल बंद कर दी गई थी. लेकिन जिले में अनैतिक मानवी यातायात कक्ष (एएचटीयू) शुरू हो जाने पर यह प्रकरण उसे सौंप  दिया गया.

    पुलिस ने सालेकसा तहसील के ही सावली डोंगरगांव निवासी चुनेश बोपचे (21) का मोबाइल ट्रेस किया गया व मुखबिर से सूचना हासिल की गई व जिससे पुलिस के हाथ आरोपी व पीड़िता के एक साथ अहमदनगर में होने की पुख्ता जानकारी मिल गई.

    इसके बाद पुलिस दल जिला अहमदनगर थाना अंतर्गत दवडीदरिया पहुंचा. जहां एक घर के निर्माण कार्य में दल को चुनेश बोपचे सेंट्रिंग का काम करते दिखाई दिया. पुलिस दल ने उसे नीचे उतारकर हिरासत में लिया. इसके बाद उसके घर पर पहुंचकर नाबालिग को भी हिरासत में लिया गया. 

    पॉस्को कानून के तहत भी मामला दर्ज

    इस प्रकरण में पुलिस ने अब धाराएं भी बढ़ा दी हैं. दुष्कर्म की धारा 376 के साथ पॉस्को दाखिल किया गया है. यह कार्रवाई जिला पुलिस अधीक्षक विश्व पानसरे के मार्गदर्शन में अनैतिक मानवी यातायात कक्ष के पुलिस निरीक्षक बी.डी.बोरसे, पुलिस उपनिरीक्षक देशमुख, सब इंस्पेक्टर दिनेश शुक्ला व महिला पुलिस कांस्टेबल बडवाइक आदि ने की है.

    उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने 600 जिलो में अनैतिक मानवी यातायात कक्ष की शुरुआत की है. जिले में इस कक्ष के खुल जाने बाद पुलिस ने 7 प्रकरणों का खुलासा कर संबंधित आरोपियों को गिरफ्तार किया है. जांच सालेकसा के थानेदार प्रमोद बघेले कर रहे हैं.