Cyclone Tauktae: Prime Minister Modi discussed with CM Uddhav Thackeray on the situation arising out of Cyclone Tauktae

    मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल (Delegation) मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के साथ मुलाकात करने वाला हैं। इस दौरान मराठा आरक्षण (Maratha Reservation), राज्य के जीएसटी के पैसे (GST Fund), चक्रवात से हुए नुकसान (Cyclone Loss) समेत अन्य मुद्दों पर चर्चा होगी। बैठक कल शाम को होगी और कार्यक्रम की रूपरेखा की घोषणा प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा की जाएगी। इस बात की जानकारी महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने दी।

    मराठा और ओबीसी आरक्षण पर बैठक में प्रतिनिधिमंडल के साथ मंत्री छगन भुजबल भी मौजूद रहेंगे। मराठा आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल से मुलाकात की थी। उन्होंने मराठा समुदाय को न्याय दिलाने के लिए राज्यपाल के माध्यम से प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से अनुरोध करते हुए राज्यपाल को एक पत्र भेजा गया था। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने यह भी कहा था कि वह भविष्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे।

    गौरतलब है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद संभाजीराजे छत्रपति (MP Sambhajiraje Chhatrapati) ने रविवार को घोषणा की कि मराठा समुदाय (Maratha Community) के लिए आरक्षण (Reservation) की मांग के साथ 16 जून को महाराष्ट्र के कोल्हापुर से राज्यव्यापी प्रदर्शन शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोल्हापुर में छत्रपति साहू महाराज की समाधि से प्रदर्शन मोर्चा निकाला जाएगा। संभाजीराजे मराठा सम्राट के वंशज हैं।

    इस बैठक में वैक्सीनेशन को लेकर भी बात की जाएगी। इन सबके लिए एक आधिकारिक पत्र दिया जाएगा। वैक्सीनेशन के मुद्दे को लेकर पत्र उसी आधार पर दिया जाएगा जिसके आधार पर ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने पत्र भेजा था।

    बता दें कि केंद्र सरकार की वैक्सीन निति पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं। इस समय वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी चल रही है। ऐसे में देश के 135 करोड़ देशवासियों को वैक्सीन लगने में कितना समय लगेगा? यह सवाल है।   

    इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र सरकार की वैक्सीन निति पर सवाल किए थे। अदालत ने पूछा था कि केंद्र सरकार ने वैक्सीन के लिए जो बजट बनाया, उसका इस्तेमाल 18 से 44 साल वालों को मुफ्त टीका लगाने में क्यों नहीं हो सकता?