कांग्रेस का पवार को जवाब, कहा ‘सवाल पूछना राजनीति नहीं है’

मुंबई. चीन के सवाल पर राष्ट्रवादी कांग्रेस के अध्यक्ष शरद पवार पवार ने दिए बयान पर कांग्रेस ने जवाब दिया है। कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष बालासाहेब थोरात ने कहा, “चीन के मुद्दे पर कांग्रेस सरकार के साथ है, हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि राष्ट्रीय हित के मुद्दों को नहीं उठाया जाना चाहिए। राहुल गांधी ने सिमा सुरक्षा के बारे में सवाल पूछना यह राजनीति नहीं है, यह तो जनता ने दी जिम्मेदारी है। 1962 और वर्तमान स्थिति की तुलना नहीं हो सकती इसे ध्यान में रखना चाहिए।”

थोरात ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 45 वर्षों में चीन सिमा पर अपना एक भी जवान शहीद नहीं हुआ था। लेकिन गलवान में चीन आक्रमण के कारण 20 जवान शहीद हुए। फिर भी प्रधानमंत्री कहते है कि, अपनी सिमा में किसीने भी प्रवेश नहीं किया। प्रधानमंत्री के इस बयान पर चीन अपने शहीदों को घुसपैठिये कह रहा है। इसका दुःख कांग्रेस जैसा शरद पवार को भी होगा। थोरात ने कहा, राहुल गांधी जनता के सवाल सरकार को पूछ रहे है। राहुल गाँधी की चिंता देश की अखंडता के साथ है। आज भी प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात में भारत-चीन मुद्दे पर कुछ नहीं कहा। ऐसे समय चुप्पी साधकर कैसे बैठ सकते है? ऐसा सवाल थोरात ने किया। 

शरद पवार ने क्या कहा था?
राहुल गांधी ने गलवान घाटी में भारत-चीनी सेना के बिच झड़प को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। जिसमे राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी पर भारतीय क्षेत्र को चीन को सौंपने का आरोप किया था। 

राहुल गांधी की इस आलोचना के बाद राष्ट्रवादी के शरद पवार ने राहुल गांधी को निशाना बनाते हुए कहा था कि, ‘राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों पर राजनीति न करें। 1962 में क्या हुआ था, हम कभी नहीं भूलेंगे। चीन ने अपनी 45 हजार वर्ग किमी भूमि पर कब्ज़ा किया। पवार ने कहा, वर्तमान में चीन ने भारत के किस क्षेत्र पर कब्ज़ा किया यह पता नहीं है। लेकिन इस पर चर्चा करते समय हमें यद् रखना होगा कि इतिहास में क्या हुआ था।