udhhav

    मुंबई. जहाँ एक तरफ कोरोना (Corona) की दूसरी लहर फिलहाल धीमी पड़ गयी है। वहीँ इस मारक संक्रमण की तीसरी लहर (Third Wave) को लेकर अब सरकारें और प्रशासन अलर्ट मोड में हैं। इसके चलते आम जनता भी इससे डरी हुई है। ऐसे में कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट (Delta Plus Varient) भी चिंता का विषय बन गया। इसके चलते अब महाराष्ट्र टास्क फोर्स (Mharashtra Task Force) ने भी कोरोना की तीसरी लहर को लेकर अहम चेतावनी जारी की है।

    इसके अनुसार अगर नियमों का पालन नहीं किया गया तो दो से चार हफ्तों के अन्दर ही महाराष्ट्र में कोरोना की तीसरी लहर भी आ सकती है। इतना ही नहीं टास्क फोर्स के चेतावनी के मुताबिक, कोरोना की तीसरी लहर बच्चों के लिए भी काफी घातक साबित हो सकती है। इससे करीब 10% बच्चे प्रभावित हो सकते हैं।

    इसके चलते, कोरोना संक्रमण बंदोबस्त की तैयारियों पर राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक समीक्षा बैठक का आयोजन किया था। इसी दौरान टास्क फोर्स ने बताया कि तीसरी लहर में कोरोना के एक्टिव मामले 8-10 लाख तक भी पहुंच सकते हैं। गौरतलब है कि अब एक्सपर्ट्स भी यह बता चुके हैं कि अगर कोरोना की तीसरी लहर आती है तो यह इस बार बच्चों को ज्यादा प्रभावित करेगी। ऐसे में इस जटिल समय में कोरोना के नियमों का सख्ती से पालन करना अनिवार्य है, वरना अब राज्य में तीसरी लहर भी दस्तक दे सकती है। 

    इतना ही नहीं टास्क फोर्स के मुताबिक डेल्टा प्लस वेरिएंट पहले की अपेक्षा थोडा ज्यादा खतरनाक है। ऐसे में टास्क फोर्स ने इस बाबत चेतावनी भी जारी कर दी है। वहीं राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी मेडिकल टीम और अधिकारियों को सभी स्वास्थ्य व्यवस्था को चाक चौबंद रखने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने डॉक्टरों को सीरो सर्वे कराने का एक जरुरी आदेश जारी करवाया है।