DHFL प्रमोटर कपिल वधावन हिरासत में, प्रधान सचिव छुट्टी पर भेजे गए

मुंबई, महाराष्ट्र के सतारा जिले के महाबलेश्वर में बृहस्पतिवार को डीएफएचएल के प्रमोटर कपिल और धीरज वधावन को कोविड-19 पाबंदियों के उल्लंघन के आरोप में हिरासत में ले लिया गया। पुलिस ने यह जानकारी दी। एक

मुंबई, महाराष्ट्र के सतारा जिले के महाबलेश्वर में बृहस्पतिवार को डीएफएचएल के प्रमोटर कपिल और धीरज वधावन को कोविड-19 पाबंदियों के उल्लंघन के आरोप में हिरासत में ले लिया गया। पुलिस ने यह जानकारी दी। एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने वधावन परिवार के सदस्यों समेत 23 लोगों को उनके फार्महाउस में पाया। 

स्थानीय पुलिस अधिकारियों के अनुसार कोरोना वायरस की रोकथाम के लिये पुणे और सतारा दोनों जिलों को सील कर दिया गया है। इसके बावजूद वधावन परिवार के सदस्यों समेत कई लोगों ने बुधवार शाम अपनी कारों से खंडाला से महाबलेश्वर की यात्रा की। कपिल और धीरज वधावन यस बैंक और डीएफएचएल धोखाधड़ी मामलों में आरोपी हैं। पुलिस ने कहा कि नगर निगम के अधिकारियों ने उन्हें दीवान फार्म हाउस में देखा। सभी 23 आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।

वहीं अब इस मामले ने बड़ा रूप अख्तियार कर लिया है जिसमे अब महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख कि भी एंट्री हो गई है। श्री देशमुख ने बताया था कि इसकी जांच कि जायेगी की कैसे  वधावन परिवार के 23 लोगों को खंडाला से महाबलेश्वर तक यात्रा करने की अनुमति दी गई थी। वहीं उन्होंने इस बात से भी अवगत कराया कि जांच से यह पता चला है कि महाराष्ट्र के प्रधान सचिव अमिताभ गुप्ता, जिन्होंने कथित रूप से वाधवन परिवार को अनुमति पत्र दिया था, तत्काल छुट्टी पर भेज दिया गया है। जांच के बाद  उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही कि जायेगी ऐसी मंशा गृह मंत्री अनिल देशमुख ने रखी है। उन्होंने यह भी कहा कि प्रधान सचिव (विशेष), गृह विभाग अमिताभ गुप्ता के खिलाफ कार्रवाई  मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बातचीत के बाद की गई है।

 Maharashtra Principal Secretary (Special), Amitabh Gupta (who allegedly gave permission letter to Wadhavan family) has been sent on compulsory leave with immediate effect, till the pending of inquiry, which will be initiated against him: Home Minister Anil Deshmukh https://t.co/iFQHidM262 pic.twitter.com/Qm1PXBrv05