Farmers Suicide

    अकोला. फसल न होना व कर्ज से त्रस्त होकर पिछले डेढ़ वर्ष में जिले के 209 किसानों ने आत्महत्या की है. जिसमें 2020 इस वर्ष में 159 तथा जनवरी से जून 2021 तक पिछले 6 माह में 50 किसानों का समावेश है. पिछले डेढ़ वर्ष में कुल 209 किसानों ने आत्महत्या की है. जिसमें से केवल 119 किसान मदद के लिए पात्र ठहरे है. 

    2020 वर्ष में जनवरी माह में 16, फरवरी 17, मार्च 7, अप्रैल 4, मई 16, जून 16, जुलाई 13, अगस्त 11, सितंबर 15, अक्टूबर 21, नवंबर 10, दिसंबर में 13 ऐसे वर्ष भर में कुल 159 किसानों ने आत्महत्या की है. जिसमें से केवल 105 किसानों के प्रकरण सरकार ने मदद के लिए पात्र ठहरे है. 33 किसानों के प्रकरण अपात्र ठहरे है. तथा 21 प्रकरण में जांच की जाएगी. 

    2021 वर्ष में जनवरी माह में 9 किसानों ने आत्महत्या की है. फरवरी 14, मार्च 10, अप्रैल 7, मई 9, जून माह में एक किसान ने आत्महत्या की है. पिछले 6 माह में ऐसे कुल 50 किसानों ने आत्महत्या की है. 50 प्रकरण में से केवल 14 प्रकरण सरकार ने मदद के लिए पात्र तथा दो प्रकरण अपात्र ठहराए है. 34 प्रकरण जांच के लिए प्रलंबित रखी है. 

    जिले में 209 किसानों ने आत्महत्या की है. जिसमें से 119 प्रकरण सरकार ने मदद के लिए पात्र ठहराई है. प्रलंबित प्रकरण की जांच पूर्ण कर किसानों के परिवार को मदद दी जाएगी. – प्रा.संजय खडसे, निवासी उप जिलाधिकारी, अकोला.

    खर्च की तुलना में आय कम है. खेतमाल को बाजार में दाम कम मिलते है. लेकिन किसानों का माल खतम होने पर दाम बढ़ते है. जिससे व्यापारियों को लाभ होता है. नुकसान भरपाई के लिए फसल बीमा निकाला जाता है. लेकिर किसानों को बीमा का लाभ नही मिलता है. जिससे किसान आत्महत्या कर रहे है.- अनिल ढोरे,किसान, खिरपुरी बु.