शनिवार से राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों के मरीजों को फ्री में मिलेगा ‘ब्लड’

मुंबई. महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (Health Minister Rajesh Tope) ने बृहस्पतिवार को राज्य में 12 दिसंबर से सभी सरकारी अस्पतालों (Government hospitals) में इलाज कराने वाले मरीजों को मुफ्त में ‘ब्लड’ (Patients ‘blood’ for free) देने की घोषणा की है। राज्य में कम रक्त की पृष्ठभूमि पर स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे और सांसद सुप्रिया सुले (MP Supriya Sule) ने रक्तदान (Blood Donation) करके नागरिकों से ‘ब्लड डोनेट’ करने की अपील की है। (From Saturday, patients of all government hospitals in the state will get free blood)

यशवंतराव चव्हाण प्रतिष्ठान (Yashwantrao Chavan Foundation) में ‘राज्य रक्त संक्रमण’ परिषद के माध्यम से रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया था। इस अवसर पर राजेश टोपे के साथ सांसद सुले और कार्यकर्ताओं ने रक्तदान किया। 

स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने कहा कि, “सरकारी अस्पतालों में रक्त संक्रमण के लिए 800 रुपये का शुल्क लिया जाता है। इसलिए अब सरकारी अस्पतालों में इलाज करा रहे मरीजों को जरूरत पड़ने पर मुफ्त रक्त देने का फैसला किया गया है। इस पहल को ‘राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन’ (National Health Mission) के माध्यम से लागू किया जाएगा।”

राज्य में तेजी से घटते रक्त स्टॉक पर चिंता व्यक्त करते हुए टोपे ने कहा, “सबको पता है कि, किसी के जीवन को बचाने के लिए रक्त कितना महत्वपूर्ण है। वर्तमान में राज्य में लगभग 344 ब्लड बैंक (Blood Bank) कार्यरत हैं। लेकिन इसमें केवल कुछ दिनों के लिए पर्याप्त रक्त उपलब्ध है। कोरोना के कारण कॉलेज बंद हैं, निजी कंपनियों का ‘वर्क फ्रॉम होम’ (Work From Home) चल रहा है और सामाजिक दूरी (Social Distance) बनाये रखने के चलते रक्तदान शिविरों के आयोजन सीमित हो गए हैं इसलिए रक्तदान कम हो रहा है। महाराष्ट्र राज्य देश में रक्त संग्रह में अग्रणी है। लेकिन अब कोरोना के कारण रक्त की कमी का सामना करना पड़ रहा है। इसलिए रक्त दान करना ही एकमात्र विकल्प है।”