Some states are not ready to recall migrant workers: Thorat

मुंबई. संसद में कृषि संबंधी विधेयक (Agriculture Bill) पारित करने के लिये केंद्र पर हमला बोलते हुये कांग्रेस नेता एवं महाराष्ट्र सरकार (Maharshtra Government) के राजस्व मंत्री बालासाहेब थोराट (Balasaheb Thorat) ने मंगलवार को कहा कि सरकार किसानों (Farmers) को कुछ चुनिंदा उद्योगपतियों (industrialists) का दास बनाना चाहती है और ‘कंपनी राज’ को बढ़ावा दे रही है । महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभालने वाले थोराट ने आरोप लगाया कि भाजपा की अगुवाई वाली राजग सरकार 2014 से जब से सत्ता में आयी है तभी से किसान विरोधी निर्णय कर रही है ।

थोराट ने बयान जारी कर कहा, ‘मोदी सरकार लोकतंत्र का गला घोंट कर तथा संसदीय नियमों का उल्लंघन कर अपने उद्योगपति मित्रों के लाभ के लिये कृषि विधेयक पारित करवाकर किसानों को चुनिंदा उद्योगपतियों का दास बनाना चाहती है । सरकार ने संसद में कृषि संबंधी दो विधेयक पारित किए हैं । रविवार को दोनों विधेयक अप्रत्याशित हंगामे के बीच राज्य सभा में पारित हुए थे । हंगामे के बाद विपक्ष के आठ सांसदों को निलंबित कर दिया गया, इनमें से तीन कांग्रेस के सांसद हैं।

सरकार ने विधेयक को कृषि क्षेत्र में जबरदस्त सुधार वाला बताया है । थोराट ने बताया, ‘केंद्र सरकार द्वारा लाया गया नया कानून, कुछ उद्योगपतियों के हाथ में कृषि क्षेत्र को सौंपने वाला और इस सेक्टर में कंपनी राज को बढ़ावा देने वाला है ।’ किसानों के प्रति प्रधानमंत्री के स्नेह को ‘सतही’ बताते हुये थोराट ने कहा कि उन्होंने :प्रधानमंत्री: बड़ी घोषणायें एवं झूठे वादों के अलावा किसानों के लिये कुछ नहीं किया। (एजेंसी)