आम लोगों के लिए जल्द खुलेंगे लोकल के दरवाजे

  • भीड़ प्रबंधन को लेकर होगी अधिकारियों की बैठक
  • कोरोना मामलों की समीक्षा
  • बीएमसी आयुक्त ने दिए संकेत

मुंबई. कोरोना मामलों में  नियंत्रण  के बीच आम लोग अपने लिए मुंबई लोकल (Mumbai Local) के दरवाजे खुलने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। मुंबई में अनलॉक के बाद सभी के लिए लोकल शुरू किए जाने पर  विचार किया जा रहा है। पिछले महीने दीपावली के पहले ही सभी के लिए लोकल शुरू किए जाने का विचार राज्य सरकार कर रही थी। इस बीच राजधानी दिल्ली में अचानक कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए मुंबई में भी एलर्ट घोषित कर दिया गया। वैसे अब मुंबई सहित  पूरे राज्य में ऑफिस, दुकानों, प्रतिष्ठानों के साथ  मंदिरों, पूजा स्थलों को भी खोल दिया गया है।

15 दिसंबर के पहले समीक्षा

मुंबई की ‘लाइफलाइन’ कही जाने वाली लोकल को सभी  के लिए खोलने का दबाव बढ़ गया है। लोकल में भीड़ प्रबंधन को लेकर  रेलवे और राज्य सरकार के अधिकारियों के बीच चर्चा भी हो रही है। बीएमसी के आयुक्त आई। एस. चहल ने भी 15 दिसंबर के पहले समीक्षा कर लोकल शुरू किए जाने के निर्णय का संकेत दिया है। बताया गया है कि मुंबई में कोरोना संक्रमण के कम होते मामलों को देखते हुए सरकार भी  लोकल शुरू किए जाने को लेकर सकारात्मक हैं। इसके लिए 11-12 दिसंबर को एक बैठक होने वाली है। अगले सप्ताह होने वाली बैठक में कोरोना मामलों की  समीक्षा कर निर्णय लिया जा सकता है।

मुंबई लोकल में अत्यावश्यक कर्मचारियों के अलावा शिक्षकों, नॉन पीक ऑवर में महिलाओं, वकीलों आदि नामित लोगों को यात्रा की इजाजत दी गई है। रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि  सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरुरी है। राज्य के अधिकारी भी मुंबई की स्थिति पर नजर रखे हैं। कोरोना के घटते  मामलों को देखते हुए  सभी के लिए लोकल खोलने की इजाजत दी जाएगी।

12 लाख से ज्यादा लोग कर रहे सफर

मध्य व पश्चिम रेलवे पर लगभग 90 फीसद लोकल दौड़ रही है। इस समय मुंबई में 2773 लोकल फेरियों का संचालन शुरू हो रहा है। मध्य रेलवे पर 1572 पश्चिम रेलवे पर 1201 सर्विसेज चल रही हैं। बताया गया है,कि दोनों लाइनों पर रोजाना लगभग 12 लाख से ज्यादा लोग सफर कर रहे हैं। दीपावली की छुट्टियों में बाहर गए लोग वापस आ रहे हैं ।

आम यात्री परेशान

यात्री सेवा सुविधा संगठन के अध्यक्ष पारसनाथ तिवारी ने कहा कि मुंबई में बिना लोकल के आम यात्री परेशान हो गए हैं। सरकार को जल्द से जल्द निर्णय लेना होगा।तेजस्वीनी  महिला रेल यात्री संगठना की अध्यक्षा लता बारगड़े ने कहा कि सभी के लिए लोकल शुरू करने के पहले ड्यूटी के समय को लेकर नियोजन होना चाहिए। उन्होंने कहा कि ड्यूटी आवर कम करने से ही लोकल सोशल डिसटेन्सिंग हो सकेगी, क्योंकि कोरोना लंबे समय तक चलने वाला है।