Coronavirus
File Photo

    मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना (Corona) का कहर जारी है। राज्य में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। बुधवार को कोरोना के 8,807 नये मामले सामने आये है। जिससे संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 21,21,119 हो गई। स्वास्थ्य विभाग (Health Department) ने कहा कि दिन में 80 और मरीजों की मौत होने की जानकारी सामने आयी जिससे राज्य में मृतक संख्या बढ़कर 51,937 हो गई। राज्य में कोविड-19 के सामने आने वाले मामलों में बढ़ोतरी हुई है क्योंकि राज्य में कोविड-19 (COVID-19) के 6,218 नये मामले सामने आये थे।

    अधिकारियों ने बताया कि 80 मौतों में से 27 मौतें पिछले 48 घंटे में हुईं जबकि 22 मौतें पिछले सप्ताह हुई थीं। बाकी 31 मौतें उससे पहले की अवधि के दौरान हुई थीं। बुधवार को 2,772 मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई जिससे राज्य में अभी तक ठीक हुए मरीजों की संख्या बढ़कर 20,08,623 हो गई। फिलाहल राज्य में कोरोना के सक्रीय मामलों की संख्या 59,358 है।

    अगर सिर्फ मुंबई (Mumbai) की बात करें तो यहां आज 1167 नए कोरोना मामले सामने आये हैं। जबकि चार लोगों की मौत हो गई। मुंबई में कुल 119 दिन के बाद एक हजार से ज्यादा कोरोना के मामले सामने आये है। मुंबई में 23 फरवरी को 643, 22 फरवरी को 760, 21 फरवरी को 921 और 20 फरवरी को 897 नए कोरोना मामले सामने आये थे।

    वहीं लंबे समय बाद बुधवार को धारावी में कोरोना के 10 मामले सामने आये है। इससे धारावी में कोरोना मामले की कुल संख्या 4041 हो गई है। जिनमें से 33 अभी भी सक्रिय हैं। इससे पहले 17 जनवरी को धारावी में दस मामले सामने आये थे। 

    वहीं उधर कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए राज्य सरकार ने बुधवार को जिला कलेक्टरों और स्थानीय निकायों के आयुक्तों से जांच में तेजी लाने को कहा है। मंत्रिमंडल की बैठक के बाद अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री नवाब मलिक ने बताया कि बैठक में राज्य में कोविड-19 स्थिति की समीक्षा की गई। उन्होंने पत्रकारों से कहा, “जांच की संख्या बढ़ाने का निर्देश दिया गया।” राज्य में पिछले दो सप्ताह से प्रतिदिन औसतन 60,000 नमूनों की जांच की जा रही है।

    मलिक ने कहा कि अधिकारियों से कहा गया है कि वे अतिसक्रियता से संक्रमित लोगों के संपर्क में आने वालों का पता लगाएं। सूत्रों ने बताया कि मंत्रिमंडल में संक्रमण को फैलने से रोकने के अन्य तरीकों पर भी चर्चा हुई। महाराष्ट्र में 10 फरवरी से ही रोज 6,000 से अधिक नए मामले आ रहे हैं।