deshmukh
File Pic

    मुंबई: सचिन वाजे (Sachin Vaze) की गिरफ्तारी और फिर परमबीर सिंह (Parambir Singh) के लेटर बम के बाद से ही महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Govt) पर कई तरह के सवाल लगातार उठ रहे हैं। पुलिस की छबि भी कटघरे में है। पोस्टिंग को लेकर भी घोटाले (Scam) का आरोप विपक्ष ने लगाया हुआ है। इसी बीच मुंबई पुलिस (Mumbai Police) के नए कमिश्नर के एक फैसले को लेकर सवाल यह उठ रहा है कि क्या पुलिस महकमे में ऑपरेशन क्लीन शुरू हो गया है। दरअसल नए सीपी ने क्राइम ब्रांच की पूरी टीम को ही साफ कर दिया है। उन्होंने 80 से अधिक अफसरों का तबादला किया है। जिसमें 65 अफसर सिर्फ क्राइम ब्रांच के हैं। 

    बता दें कि मुंबई के नए सीपी हेमंत नगराले (Hemant Nagrale) के इस फैसले की काफी चर्चा भी हो रही है। सचिन वाजे के गिरफ्तार होने और पूरे मामले के सामने आने के बाद पुलिस डिपार्टमेंट पर सवाल उठ रहा था। वाजे मामले से क्राइम ब्रांच भी कटघरे में थी। 

    वहीं दूसरी तरफ मंगलवार को गृहमंत्री अनिल देशमुख और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की मुलाकात हुई है। ऐसी खबरें है कि देशमुख ने सीएम के सामने उनपर लगे आरोपों पर अपना पक्ष रखा है। दोनों नेताओं के बीच लगभग एक घंटे बात हुई। परमबीर सिंह के आरोपों के बाद बीजेपी लगातार गृहमंत्री के इस्तीफे की मांग कर रही है।