शिवसेना को बनाओं नंबर वन

  • शिवसेना ने ग्राम पंचायत चुनाव के लिए कसी कमर
  • जिला और सम्पर्क प्रमुखों के साथ बनाई रणनीति
  • 14 हजार 234 ग्राम पंचायत का चुनाव
  • 15 को वोटिंग, 18 को नतीजे
  • ठाकरे सरकार की पहली जनमत परीक्षा

मुंबई. 15 जनवरी को महाराष्ट्र के 14 हजार 234 ग्राम पंचायत (Gram Panchayat) में होने वाली चुनाव की तैयारियों को लेकर शिवसेना( Shiv Sena ) ने कमर कस ली है. शिवसेना अध्यक्ष और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) ने इस चुनाव में पार्टी को नंबर वन बनाने के लिए नेताओं को मजबूती से जुट जाने के आदेश दिए हैं. चुनाव के लिए रणनीति बनाने को लेकर शुक्रवार को उद्धव ने पार्टी के जिला प्रमुखों के साथ चर्चा की थी. वहीं शनिवार को उन्होंने शिवसेना संपर्क प्रमुखों के साथ खास बैठक की. 

सूत्रों के मुताबिक़, इस चुनाव में नंबर वन पोजीशन (number one ) हासिल करने के लिए शिवसेना अध्यक्ष ने पार्टी के सभी पदाधिकारियों मजबूती से जुट जाने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा है कि जमीनी स्तर पर काम करके ही इस चुनाव में अच्छी सफलता हासिल की जा सकती है. महाराष्ट्र में 14 हजार 234 ग्राम पंचायत चुनाव (Gram Panchayat Election) के लिए अगले साल 15 जनवरी को वोट डाले जाएंगे, वहीँ 18 जनवरी को नतीजे घोषित होंगे. पिछले साल महाराष्ट्र में सरकार के गठन के बाद  ठाकरे सरकार यह पहली जनमत परीक्षा होगी.   

गांवों में भगवा फहराओ

इस चुनाव में महाराष्ट्र विकास आघाड़ी में शामिल शिवसेना, कांग्रेस(Congress) और एनसीपी (NCP) का सीधा मुकाबला बीजेपी (BJP) से है. ऐसे में बीजेपी के भगवा पर भारी पड़ने के लिए शिवसेना अध्यक्ष ठाकरे ने अपने नेताओं से पूरी ताकत के साथ मैदान में उतरने का आदेश दिया है. उन्होंने कहा कि गांवों में शिवसेना का भगवा फहराने के लिए सभी नेताओं को जी-जान से काम करने की जरुरत है. उद्धव ने इसके लिए स्थानीय शिवसेना मंत्रियों और नेताओं के साथ मिल कर समन्वय से काम करने के निर्देश दिए हैं. ग्राम पंचायत का चुनाव अप्रैल महीने में प्रस्तावित थे, लेकिन कोरोना महामारी की वजह से इसे स्थगित कर दिया गया था.     

विधान परिषद चुनाव में हार से बीजेपी मायूस

हाल ही में विधान परिषद की 6 सीटों पर हुए चुनाव में बीजेपी सिर्फ 1 सीट पर जीत हासिल कर सकी है. इस चुनाव में नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस और प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल के गढ़ में भी बीजेपी उम्मीदवारों को  आघाड़ी उम्मीदवारों के सामने हार का सामना करना पड़ा है. ऐसे में इस हार से बीजेपी खेमे में मायूसी है. बीजेपी के सामने सबसे बड़ी चुनौती महाराष्ट्र विकास आघाड़ी में शामिल तिकड़ी ( शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी) का एक साथ मुकाबला करने को लेकर है. हालांकि फडणवीस और पाटिल ने भी ग्राम पंचायत चुनाव के लिए पार्टी की रणनीति पर तेजी से काम करना शुरू कर दिया है.

राज ठाकरे ने भरी हुंकार

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के अध्यक्ष राज ठाकरे ने भी ग्राम पंचायत चुनाव को लेकर हुंकार भर दी है. उन्होंने सभी जिलाध्यक्षों को इस चुनाव में पूरी ताकत के साथ उतरने का आवाहन किया है. मनसे ने हर जिले में अपने उम्मीदवारों का उतारने का फैसला किया है. इस चुनाव में प्रकाश आंबेडकर की वंचित आघाड़ी भी मैदान में उतरेगी. जानकारों का कहना है कि यह दोनों पार्टियों इस चुनाव में वोट काटने का काम करेगी. अब यह देखना दिलचस्प होगा कि इसका फायदा आघाड़ी या बीजेपी में से किसे होता है.