मराठाओं को आरक्षण नहीं, तो सभी समुदाय का आरक्षण करें रद्द : उदयन राजे भोसले

पुणे. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) द्वारा मराठा आरक्षण (Maratha Reservation) को स्थगित करने के बाद, मराठा समुदाय फिर एक बार आक्रामक हो गया है। पूरे राज्य में सरकार (State Government) के खिलाफ प्रदर्शन देखने मिल रहे है। वहीं मराठा आरक्षण के मुद्दे पर राज्य की राजनीति (Maharashtra Politics) भी गरमाई है। आरक्षण को लेकर आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गए है। इस बीच बीजेपी सांसद उदयन राजे भोसले (BJP MP Udayan Raje Bhosale) ने बड़ा बयान दिया है। भोसले ने कहा, “यदि मराठा समुदाय को आरक्षण नहीं दिया जा सकता है, तो पूरे समुदाय के आरक्षण को रद्द किया जाए। योग्यता और मेरिट के आधार पर सभी का चयन करें।”

3 अक्टूबर को पुणे में मराठा आरक्षण मुद्दे पर विचार मंथन बैठक आयोजित की गई है। इसी बैठक का निमंत्रण लेकर शिवसंग्राम नेता विनायक मेटे सातारा गए थे। विनायक मेटे ने उदयन राजे से मुलाकात की। मुलाकात के बाद, उदयनराजे ने मराठा आरक्षण को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा।

मराठा समुदाय की आर्थिक स्थिति नाजुक 

उदयनराजे ने बताया कि, मराठा समुदाय की आर्थिक स्थिति गंभीर है। मराठा आरक्षण को स्थगिती मिलने के बाद इस समुदाय के लोग आक्रामक हो गए है। जैसे अन्य समुदाय को आरक्षण मिला उसी प्रकार मराठा समुदाय को अभी आरक्षण मिलना चाहिए। उन्होंने कहा, मराठा समुदाय के छात्रों को अच्छे अंक प्राप्त करने पर भी प्रवेश नहीं मिलता है। इसलिए, यदि मराठा समुदाय को आरक्षण नहीं दिया जा सकता है, तो सभी आरक्षण रद्द कर दें।