CBI's investigation into allegations of corruption against Anil Deshmukh will continue, bombay high court refuses to quash FIR
File

    मुंबई: मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering) केस में महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) की मुश्किलें और भी बढ़ती नज़र आ रही हैं। ईडी (ED) ने शनिवार को अनिल देशमुख के खिलाफ पीएमएलए (PMLA) मामले में उन्हें एजेंसी के समक्ष पेश होने को कहा है। इस मामले में ईडी ने उन्हें समन भी जारी किया है। अनिल देशमुख के ईडी ऑफिस पहुंचने ने को लेकर फिलहाल सस्पेंस बना हुआ है। इस बीच देशमुख के वकील ईडी ऑफिस पहुंचे हैं और उन्होंने ईडी अधिकारियों को देशमुख की तरफ से एक लेटर सब्मिट किया है जिसमें उन्हें देशमुख को ईडी दफ्तर किसी और दिन बुलाने की अपील की है।

    अनिल देशमुख के वकील, जयवंत पाटिल ने कहा, “हमने ईडी को पत्र दिया है और उनसे दस्तावेज प्रस्तुत करने के लिए कहा है, जिसके आधार पर पूछताछ की जानी है क्योंकि हमें जांच की रेखा के बारे में कोई जानकारी नहीं है। इसलिए हम पूछताछ के लिए उपस्थित होने में असमर्थ हैं। अब ईडी को इस पर फैसला लेना है।”

    इससे पहले शुक्रवार को ईडी ने अनिल देशमुख के ठिकानों पर रेड की थी। बताया जा रहा है कि, ईडी अधिकारी उनसे रेड के बाद मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में पूछताछ करना चाहती है। ईडी ने मुंबई और नागपुर में देशमुख के कई ठिकानों पर छापेमारी की थी।वहीं 100 करोड़ रुपये की रिश्वत के आरोपों के सिलसिले में अनिल देशमुख के खिलाफ दर्ज धन शोधन के मामले में उनके दो सहायकों को केंद्रीय एजेंसी ने गिरफ्तार किया है।

    धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत करीब नौ घंटे की पूछताछ के बाद देशमुख के निजी सचिव संजीव पलांडे और निजी सहायक कुंदन शिंदे को गिरफ्तार किया गया है।