corona
File

    मुंबई. जहाँ एक तरफ भारत (India) में कोरोना संक्रमण के मामले एक बार फिर बढ़ने लगे हैं।  वहीं महाराष्ट्र (Maharashtra) में इस ख़तरनाक संक्रमण ने एक बार फिर से साल 2020 की तरह ही इस वर्ष भी यानी 2021 में भी अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया है। अब मुंबई में कोरोना की खतरनाक तेज गति से फैल रहा है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि यहां एक्टिव केसों की संख्या में अब 89 % की बढ़ोतरी हुई है। इसी के चलते अब  मुंबई और इससे सटे आस-पास के इलाकों में अब और सख्ती बढ़ गई है। 

    वहीं बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच अब एक बार फिर से लॉकडाउन की आहट सुनाई पड़ रही है। वहीं प्रशासन ने मुंबई के ठाणे में कोरोना को काबू में करने के लिए एक बार फिर से लॉकडाउन को ही अपना हथियार बनाया है और इसके चलते अब ठाणे के 11 हॉटस्पॉट में लॉकडाउन लागू भी कर दिया है। 

    ठाणे के 11 हॉटस्पॉट में लॉकडाउन: 

    गौरतलब है कि  ठाणे (Thane) शहर के 11 हॉटस्पॉट (Hotsport) में आगामी 13 मार्च से 31 मार्च के बीच एक लॉकडाउन (Lock Down) की घोषणा की गई है। इस पर ठाणे नगर आयुक्त विपिन शर्मा द्वारा जारी आदेश में यह कहा गया है कि पिछले कुछ दिनों में इन क्षेत्रों में कोरोना के मामलों में वृद्धि के कारण यह लॉकडाउन का कठोर निर्णय लिया गया है।

    क्या हैं ठाणे में कोरोना का हाल:

    नगर आयुक्त विपिन शर्मा के इस आदेश में कहा गया है कि लॉकडाउन ठीक उसी तरह रहेगा, जैसे पहले लागू था। गौरतलब है कि ठाणे में कोरोना के 780 नए मामले सामने आने से संक्रमितों की संख्या बढ़कर अब 2,69,845 हो चुकी है। वहीं अब तक इस संक्रमण से तीन और लोगों की मौत होने से जिले में मरने वालों की संख्या बढ़कर 6,302 हो चुकी है। इसके साथ ही ठाणे जिले में अब कोरोना मृत्यु दर 2. 34 % है।

    89% बढे मुंबई में एक्टिव केस: 

    जहाँ कोरोना के केसों में बढ़ोतरी के बीच अब मुंबई में बीते फरवरी की तुलना में एक्टिव केसों की संख्या में लगभग 89% की बढ़ोतरी हुई है। वहीं अंधेरी (पश्चिम), चेंबूर, गोवंडी सहित आठ सिविक वार्ड में सबसे अधिक कोरोना संक्रमण के मामले दर्ज किए जा रहे हैं और इनका इस आंकड़ों में अब सबसे अधिक योगदान है। बता दें की जहाँ मुंबई में बीते 7 मार्च को कोरोना के 1360 नए केस दर्ज किए गए थे, वहीं1020 लोग अस्पताल से डिस्चार्ज हुए। वहीं इसके पहले बीते 6 मार्च को मुंबई के एक्टिव मामलों की संख्या 10,398 हो गई थी, जो फरवरी के पहले सप्ताह में केवल 5,500 ही थी। इस तरह फिलहाल मुंबई में कोरोना के कुल मामले बढ़कर 3,34,583 हो गए। 

    जहाँ बीते तीन हफ्ते पहले मुंबई में रोजाना मिलने वाले कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 500 से नीचे ही थी। लेकिन फिर कोरोना संक्रमण के नए मामले 17 फरवरी से बढ़ने लगे और यह आंकड़ा फिर 700 भी पार करने लगा। इसके प्रधान कारणनागरिकों द्वारा कोरोना प्रोटोकॉल को न मानना, आम जनता को लोकल ट्रेनों में यात्रा करने और विभिन्न व्यावसायिक गतिविधियों को खोलने की अनुमति के बाद यह भयंकर उछाल देखने को मिला है। 

    पुणे के हाल बुरा:

    कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच पूरे पश्चिम महाराष्ट्र यानी पुणे संभाग (पुणे, सातारा, सांगली, सोलापुर, कोल्हापुर) में 24 घंटे के भीतर कोरोना के 2,295 नए मरीज मिले हैं। इसमें अकेले पुणे जिले के 2, 044 मरीज मिले हैं। पुणे शहर में 753 नए मरीज पाए गए। सातारा में 65, सोलापुर में 112, सांगली में 44 और कोल्हापुर जिले में 30 नए संक्रमित मरीजों का समावेश है। 

    पुणे संभाग में आज कुल 1,474 संक्रमित कोरोना मुक्त हुए हैं। इसमें अकेले पुणे जिले के 1348 मरीज शामिल हैं। इसके अलावा सातारा जिले के 50, सोलापुर जिले के 23, सांगली जिले के 12 और कोल्हापुर जिले के 41 मरीज शामिल हैं।

    विदर्भ के नागपुर का भी हाल बेहाल :

    बीते रविवार को मिली रिपोर्ट के अनुसार फिलहाल नागपुर जिले में जिले के विविध अस्पतालों में 2,909 मरीज उपचार के लिए भर्ती थे और 7,941 संक्रमित अपने घरों में उपचार करवा रहे हैं।  लगभग 11,000 के करीब मरीज जिले में हैं और यदि नागरिक सतर्क नहीं हुए तो यह संख्या विस्फोटक हो सकती है।  बीते रविवार को को जिले में 1,271 और नये पॉजिटिव मिले हैं जिसमें 1,037 तो सिटी के हैं।  ग्रामीण भागों के 231 मिले हैं।  वहीं, जिले में बीते रविवार को 7 कोरोना की बलि चढ़ गए जिन्हें मिलाकर मरने वालों की संख्या 4,390 हो गई है।  जिसमें सिटी के 2,830 और जिले के 781 के साथ ही जिले के बाहर के 779 मृतकों का समावेश है। 

    महाराष्ट्र के बुरे हैं हाल :

    बता दें कि महाराष्ट्र में लगातार 3 दिन तक प्रतिदिन कोरोना संक्रमण के 10 हजार नए मामले सामने आने के बाद जहाँ बीते सोमवार को 8,744 नए मामले सामने आए। वहीं स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि इसके साथ ही अब राज्य में कुल मामले बढ़कर 22,28,471 हो गए और वहीं इस महामारी से मरने वालों की संख्या 52,500 पर पहुंच गई। फिलहाल राज्य में अब तक 20,77,112 मरीज ठीक भी हो चुके हैं और वहीं अभी 97,637 मरीजों का फिलहाल उपचार चल रहा है।