Sachin Vaze
File Photo

    मुंबई. जहाँ एक तरफ देश के जाने माने उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के आवास एंटीलिया (Antilia) के पास मिले विस्फोटक से भरे मिले स्कार्पियो (Scorpio) मामले में मुंबई पुलिस के गिरफ्तार अफसर सचिन वाजे ने पुलिस अधिकारी के अलग भी कई अनेक काम किये हैं। जी हाँ निजी मीडिया चैनल ‘आज तक’ (Aaj Tak) की रिपोर्ट के मुताबिक इनमे एनकाउंटर स्पेशलिस्ट से लेकर अपना खुद का सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म, वॉट्सऐप जैसा स्वदेशी मैसेजिंग ऐप डिजाइन करने वाले इस पूर्व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट ने भी पुलिस के अलावा और भी कई क्षेत्रों में अपना हाथ आजमाया है।

    सचिन वाजे (Sachin Vaze) को पिछले साल जून में उनकी बहाली से पहले 2003 में ख्वाजा यूनुस की पुलिस हिरासत में मौत के मामले में उनकी कथित भूमिका के कारण निलंबित कर दिया गया था। 2020 में मुंबई पुलिस में लौटने से पहले, वाजे ने प्रौद्योगिकी, एन्क्रिप्टेड सामग्री, सोशल मीडिया, साइबर स्पेस और संचार की दुनिया में एंट्री की। मुंबई पुलिस के इस दागी अफसर के पुलिस की नौकरी के अलावा उसके जीवन के अन्य पक्षों का विस्तृत अवलोकन किया गया है।

    वाजे का अपना मैसेजिंग ऐप भी:  

    गौरतलब है कि ख्वाजा यूनुस काण्ड में सचिन वाजे की कथित भूमिका चलते उसके निलंबन से पहले, सचिन वाजे ने साइबर-क्राइम, बैंक कार्ड और धोखाधड़ी आदि पर भी काम किया था। वहीं अपने निलंबन के बाद, उसने कई प्रौद्योगिकी प्लेटफॉर्मों और उत्पादों को बनाने में तकनीक के साथ अपने साइबर कौशल और अनुभव का भी बेहतरीन उपयोग किया। इनमें से सबसे प्रभावशाली उसका मैसेजिंग और कम्युनिकेशन ऐप “डायरेक्ट बात” था। यह एप ख़ास तौर से उद्यमियों, सरकारी एजेंसियों और हाई-प्रोफाइल लोगों के लिए तैयार किया गया था। इतना ही नहीं वाजे ने इस पेड सर्विस को ‘धरती पर सबसे सुरक्षित संचार सूट’ होने का दावा भी किया था।

    Courtsey: Aaj Tak

    उसका यह मैसेजिंग और कम्युनिकेशनप्लेटफॉर्म अक्टूबर 2018 में लॉन्च हुआ था। इसमें एन्क्रिप्टेड कम्युनिकेशन प्लेटफॉर्म, संदेश भेजने, वीडियो कॉलिंग और फाइल साझा करने में सक्षम, जिसे उसने तकनीकी विशेषज्ञ संयोग शेलार के साथ मिलकर डिजाइन किया गया था। लेकिन फिलहाल यह एप गूगल प्लेस्टोर में उपलब्ध नहीं है और इसे हटा दिया गया है। 

    वाजे का सर्च इंजन भी:  

    जी हाँ मुकेश अम्बानी मुकेश अंबानी के आवास एंटीलिया के पास मिले विस्फोटक से भरे मिले स्कार्पियो मामले में फंसे पुलिस अफसर सचिन वाजे ने इसके अलावा भारत-केंद्रित लोगों की जानकारी तलाशने के लिए सर्च इंजन भी बनाया था और यूजर्स को मुफ्त और पेड सर्विस प्रदान कीं थी। इसे साल 2012 में लॉन्च किया गया था। बता दें किसचिन वाजे की Indianpeopledirectory।com नाम का सर्च इंजन नाम, पता, संपर्क और पृष्ठभूमि खोज से संबंधित सेवाओं की पेशकश करने का भी दावा करती है।

    Courtsey: Aaj Tak

    वाजे का ‘मराठी फेसबुक’ वर्जन:

    यूँ तो सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी फेसबुक ने साल 2006 में अपने दरवाजे यूजर्स के लिए खोल दिया था। तो वहीं निलंबित मुंबई पुलिस के अफसर वाजे ने 2010 में मराठी भाषी उपयोगकर्ताओं के लिए एक स्थानीय सोशल नेटवर्क प्लेटफॉर्म का अपना वर्जन भी लॉन्च किया था। वर्तमान में अयोग्य कराए दिए गए इस सोशल नेटवर्क प्लेटफॉर्म ने एक बार खुद को “मराठी फेसबुक” के रूप में प्रचार हुआ था। वहीं मार्क ज़ुकरबर्ग के फेसबुक की तरह ही सचिन वाजे के इस प्लेटफॉर्म ने अपने यूजर्स को ‘असीमित संख्या में फोटो, पोस्ट लिंक और वीडियो’ की पेशकश की थी। इतना ही नहीं सचिन वाजे ने कानून, सुरक्षा, कंप्यूटर हार्डवेयर और सोशल नेटवर्किंग से जुड़ी सेवाओं के लिए अपने नाम के साथ छह ट्रेडमार्क दावे दायर किए थे। वाजे द्वारा दावा किए गए कुछ ट्रेडमार्क्स में “LAPCOP”, “KNOW YOUR LAW”, “A Fascinating Side of Life” और “LAI BHAARI” आदि प्रमुख रूप से शामिल थे।

    Courtsey: Aaj Tak

    वाजे ने किया था रितेश देशमुख और जेनेलिया डिसूजा पर केस:

    अपने इसी ट्रेडमार्क का लाभ उठाते हुए सचिन वाजे ने एक बार कॉपीराइट उल्लंघन के लिए एक्टर रितेश देशमुख और जेनेलिया डिसूजा पर केस भी दायर किया था, क्योंकि उन्होंने 2014 में उनके ट्रेडमार्क से मेल खाते नाम के साथ रितेश ने एक मराठी फिल्म लॉन्च की थी।

    Courtsey: Aaj Tak

    किताबें भी लिखी हैं वाजे ने:

    हैरान मत होइए। जी हाँ यह सत्य है कि वाजे ने 26/11 के मुंबई आतंकी हमले पर दो किताबें भी लिखीं हैं। साल 2012 में आई उसकी मराठी किताब “जिन्कुन हरेली लढाई” में उस आतंकी हमलों के बारे में इस किताब में कैसारी बातें विस्तार से बताई गई थीं। इसके साथ ही सचिन वाजे ने अपनी दूसरी किताब ‘द स्काउट’ को एक अन्य पूर्व पुलिस अफसर शिरीष थोरात के साथ मिलकर लिखी थी। साल 2019 में आई इस अंग्रेजी किताब में आतंकी हमलों का भी जिक्र हुआ था।

    Courtsey: Aaj Tak

    क्यों सुर्खियों में है सचिन वाजे: 

    गौरतलब है कि उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के ‘एंटीलिया’ (Antilia) आवास के बाहर बीते 25फरवरी को जिलेटिन की छड़ों से भरी कार मिलने के मामले में NIA ने बीते शनिवार 13मार्च की रात वाजे को गिरफ्तार किया था। इस मामले को लेकर उठते सवालों के बीच महाराष्ट्र सरकार ने बुधवार को मुंबई के पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह (Parambir Bir Singh) का एक कम महत्वपूर्ण पद पर तबादला कर दिया गया था। वहीं उनकी जगह वरिष्ठ IPS अधिकारी हेमंत नगराले (Hemant Nagrale) को मुंबई का नया पुलिस आयुक्त नियुक्त किया गया है।