NCP MLA Anna Bansode firing in broad daylight, MLA safe

    पिंपरी. पिंपरी-चिंचवड़ (Pimpri-Chinchwad) की औद्योगिक नगरी में बुधवार को तब खलबली मच गई जब महाराष्ट्र की सत्ताधारी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के विधायक अण्णा बनसोडे (MLA Anna Bansode) पर दिनदहाड़े फायरिंग (Firing) की गई। हमलावर दो की संख्या में थे जिसमें से फायरिंग करनेवाले को जगह पर ही बनसोडे के कार्यकर्ताओं ने पकड़ लिया और उसे पुलिस के हवाले कर दिया। बताया है रहा है कि हमलावर ने कुल तीन राउंड फायर किया, हालांकि इसमें से विधायक बनसोडे बाल-बाल बच गए हैं। उन्होंने मीडिया के जरिए एक बयान जारी कर खुद के सुरक्षित रहने की जानकारी देते हुए अपने समर्थकों और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं से महामारी के संकटकाल में शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखने की अपील की है।

    पुलिस से मिली प्राथमिक जानकारी के अनुसार, आज दोपहर एक बजे के करीब विधायक अण्णा बनसोडे चिंचवड़ कालभोरनगर स्थित अपने दफ्तर पहुंचे थे। हमेशा की तरह वे अपने विधानसभा चुनाव क्षेत्र के नागरिकों और दूसरे आगंतुकों से मुलाकात कर रहे थे। 

    बाल-बाल बचे विधायक 

    करीबन डेढ़ बजे के करीब पिंपरी-चिंचवड़ मनपा परिसर में कचरा ट्रांसपोर्टेशन और निपटारा का ठेका ली हुई अन्थोनी नामक कंपनी का सुपरवाइजर तानाजी पवार अपने एक साथी के साथ विधायक से मिलने पहुंचा। उसने आते ही ऊंचे लहजे में बातचीत की शुरुआत की और उन पर दौड़े जाने लगा। उसके रवैये पर शक होने पर विधायक बनसोडे के पुत्र सिद्धार्थ और अन्य कार्यकर्ताओं ने उसे उनकी केबिन से बाहर निकाला। शोरगुल से दफ्तर के बाहर भीड़ जमा हो गई।  पवार ने गुस्से में आकर अपने पास की पिस्तौल निकाली और विधायक अण्णा बनसोडे की दिशा में गोली चला दी। हालांकि सिद्धार्थ और अन्य कार्यकर्ताओं की सतर्कता और समय सूचकता से विधायक बाल-बाल बच गए।

    कुल तीन राउंड फायरिंग हुई

    पहली बार निशाना चूकने पर तानाजी पवार ने विधायक और उनके समर्थकों की दिशा में दो राउंड फायर और किये। हालांकि इस फायरिंग में सौभाग्य से कोई चोटिल नहीं हुआ। विधायक के समर्थकों और सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी ने पवार को दबोच लिया और उसके हाथ से पिस्तौल छीन ली। विधायक समर्थकों ने उसकी धुलाई की और उसे पुलिस के हवाले कर दिया। इस धरपकड़ के दौरान पवार के साथ आये उसके अन्य साथी ने भी अपनी पिस्तौल निकाल ली, मगर कार्यकर्ताओं ने उसे दौड़ा लिया। हालांकि वह उनकी पकड़ में नहीं आया। बताया जा रहा है कि दफ्तर के बाहर और चौक में उनके कुछ और साथी भी बाहर उनका इंतजार कर रहे थे, जो धरपकड़ शुरू होने के साथ भाग निकले। विधायक अण्णा बनसोडे ने मीडिया से की गई बातचीत में पूरे घटनाक्रम के बारे में बताया और खुद के सुरक्षित रहने की जानकारी दी। साथ ही अपने समर्थकों और राष्ट्रवादी के कार्यकर्ताओं से शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखने की अपील की। बहरहाल पिंपरी-चिंचवड़ पुलिस इस हमले की वजह और हिरासत में लिए गए हमलावर के साथियों और पूरी साजिश के मास्टरमाइंड के बारे में जानकारी हासिल करने में जुट गई है।