महाराष्ट्र में ‘लव जिहाद’ कानून की जरुरत नहीं : असलम शेख

मुंबई. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में ‘लव जिहाद’ (‘Love Jihad’) को रोकने के लिए कानून (law )लाने की तैयारियों के बीच महाराष्ट्र (Maharashtra) में भी इस तरह के कानून लाने के लिए बहस तेज हो गई है. हालांकि ठाकरे सरकार के कैबिनेट मंत्री असलम शेख (Aslam Sheikh) ने महाराष्ट्र में इस तरह के कानून  लाने से साफ़ तौर से इनकार किया है. उन्होंने कहा कि जिस राज्य में सरकार कानून-व्यवस्था के साथ काम कर रही हो, वहां इस कानून की कोई जरुरत नहीं है.

 शेख ने कहा कि जो सरकारें अपनी नाकामी  छिपाना चाहती हैं, वे सरकारें ऐसे कानून ला रही हैं. देश में यूपी सरकार ने सबसे पहले ‘लव जिहाद’ को लेकर कानून बनाने का ऐलान किया है.

फडणवीस ने कानून का किया समर्थन

महाराष्ट्र में नेता विपक्ष देवेन्द्र फडणवीस ने ‘लव जिहाद’ कानून का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि देश में ‘लव जिहा’ के कई मामले सामने आ रहे हैं. केरल में भी इस बात को माना गया है, जहां बीजेपी की सरकार नहीं  है. उन्होंने कहा कि जब इस तरह के मामले आते हैं तो सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि इसे रोकने के लिए कानून बनाया जाए.

सोमैया ने भी साधा निशाना

ठाकरे सरकार के खिलाफ आग उगलने वाले बीजेपी नेता किरीट सोमैया ने भी ‘लव जिहाद’ कानून का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में कांग्रेस के साथ सरकार बनाने के बाद अब शिवसेना अध्यक्ष और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की भाषा बदल गई है.

क्यों चुप है शिवसेना

बीजेपी विधायक राम कदम ने शिवसेना की चुप्पी पर सवाल उठाते हुए कहा हैं कि क्या सत्ता की लालच की वजह से वे चुप हैं. उन्होंने कहा कि  क्या शिवसेना यह भूल गई है कि शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे इस मुद्दे पर क्या कहते थे. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की ओर से ‘लव जिहाद’ के समर्थन में दिए जा रहे बयानों का सपोर्ट नहीं किया जा सकता है.