पुराने मंदिरों का होगा जीर्णोधार, विस में CM ठाकरे की घोषणा

  • बोले, हिंदुत्व से हटा नहीं

मुंबई. महाराष्ट्र में स्थित पुराने मंदिरों का जीर्णोधार किया जाएगा। यह घोषणा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) ने  महाराष्ट्र विधान मंडल (Maharashtra Legislature) के शीतकालीन सत्र (winter session) के आखिरी दिन की। उन्होंने कहा कि हम आने वाले वर्षों में प्राचीन मंदिरों के संरक्षण के लिए भी काम करेंगे।

ठाकरे ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि इससे आपको एहसास होगा कि हमने हिंदुत्व को नहीं छोड़ा है। लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान राज्य में मंदिरों को खोले जाने के मुद्दे को लेकर बीजेपी ने मुख्यमंत्री ठाकरे के हिंदुत्व को लेकर निशाना साधा था। यहां तक कि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Governor Bhagat Singh Koshyari)  ने भी सीएम ठाकरे को पत्र लिख उनके हिंदुत्व पर सवाल खड़े किए थे। हालांकि उस समय उद्धव ने साफ़ तौर से कहा था कि हिंदुत्व के लिए उन्हें किसी के सर्टिफिकेट की जरुरत नहीं है। विधानसभा में हिंदुत्व से नहीं हटने की बात कह कर एक बार फिर उन्होंने अपने आलोचकों को करारा जवाब दिया है।  

फडणवीस पर तंज

सीएम ठाकरे ने विधानसभा में अपने संबोधन के दौरान नेता विपक्ष देवेन्द्र फडणवीस (Leader of Opposition Devendra Fadnavis) पर जम कर तंज कसा। उन्होंने कहा कि जो लोग पिछले एक साल से सरकार को उखाड़ फेंकने की राह देख रहे हैं थे वे अब किताबें और रिपोर्ट पढ़ रहे हैं। उद्धव ने यह तंज फडणवीस के उस बयान के संदर्भ में कसा है, जिसमें उन्होंने कहा कि ठाकरे सरकार सिर्फ किताबों का प्रकाशन करती है, विकास नहीं।

दिल्ली की राह देखें फडणवीस

सीएम ठाकरे ने नेता विपक्ष फडणवीस की खिंचाई करते हुए कहा कि अब उन्हें दिल्ली की राजनीति में सक्रिय होना चाहिए। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि बीजेपी नेता सुधीर मुनगंटीवार की भी यही इच्छा है। सीएम ठाकरे के ऐसा कहने पर पूरे विधानसभा में हंसी का ठहाका गूंज उठा। हालांकि इस पर विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले ने मुख्यमंत्री से पूछा कि वह हमारे मित्र का अनुसरण क्यों कर रहे हैं।  इस पर ठाकरे ने जवाब दिया कि आपको यहां रहना चाहिए और कहीं नहीं जाना चाहिए। इसके बाद पूरे सदन का माहौल काफी खुशनुमा हो गया।

मराठा आरक्षण की सुनवाई अंतिम चरण में

मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि मराठा समुदाय को आरक्षण देने की लड़ाई अपने अंतिम चरण में पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने इसके लिए जानकार वकीलों की सेना  को जिम्मेदारी दी है। ठाकरे ने कहा कि मुझे विश्वास है कि सुप्रीम कोर्ट में हम मराठा आरक्षण (Maratha Reservation)की लड़ाई जरुर जीतेंगे।  

कोरोना रोकने के लिए कारगर कदम

मुख्यमंत्री ठाकरे ने बीजेपी के उस आरोप को खारिज किया कि जिसमें कहा गया कि महाराष्ट्र सरकार कोरोना से निपटने में नाकाम रही है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने पहले दिन से कोई आंकड़ा नहीं छिपाया है। विरोधियों को हमारी आलोचना करनी चाहिए। हमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन क्या विरोधी यह नहीं देखते कि पूरी दुनिया ने कोरोना से निपटने में हमारे धारावी मॉडल की सराहना की है। ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र डॉक्टरों की टास्क फोर्स बनाने वाला पहला राज्य है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने में ‘ मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ योजना भी काफी कारगर साबित हुई है।