निजी स्कूलों का ऑनलाइन क्लास बंद आंदोलन

  • फीस न मिलने से फेडरेशन ऑफ स्कूल एसोसिएशन इन महाराष्ट्र का ऐलान

पिंपरी. अभिभावकों से लगातार मिल रहे असहयोग और स्कूल फीस (School fees) न मिलने की वजह से पुणे  (Pune) और पिंपरी चिंचवड़ (Pimpri Chinchwad) के निजी स्कूलों (Private schools) ने ऑनलाइन क्लास (Online class) बंद करने की घोषणा की है। इन स्कूलों ने मंगलवार से तीन दिनों के लिए ऑनलाइन क्लास बंद करने का फैसला किया है। फेडरेशन ऑफ स्कूल एसोसिएशन इन महाराष्ट्र (Federation of School Associations in Maharashtra) ने स्पष्ट किया है कि उनके आंदोलन का मकसद केवल फीस वसूलना नहीं है, बल्कि निजी स्कूलों की समस्याओं की ओर राज्य सरकार का ध्यान आकर्षित करना है।

फीस न भरने से वित्तीय संकट

स्कूलों के इस संगठन का कहना है कि कोरोना संक्रमण  (Corona infection) के कारण पैदा हुए वित्तीय दिक्कतों की वजह से कई बच्चों के माता-पिता स्कूल फीस का भुगतान नहीं कर रहे हैं। फीस भुगतान न करने की वजह से वित्तीय संकट (Financial Crisis) पैदा हो गया है। संगठन का कहना है कि पुणे और पिंपरी चिंचवड़ के करीब 1483 इंग्लिश मीडियम स्कूल ने अभिभावकों को किस्तों में पैसे जमा करने की सुविधा दी थी, लेकिन अभिभावक बच्चों की फीस नहीं जमा करा पाए। संगठन ने कहा कि उन्होंने स्कूलों से फीस भी नहीं बढ़ाने को कहा, लेकिन फिर भी अभिभावकों ने फीस नहीं जमा की। इसके बाद वित्तीय संकट के कारण स्कूलों को अपनी रोजाना की गतिविधियों पर भी रोक लगानी पड़ी है।

राज्य सरकार से हस्तक्षेप की उम्मीद 

एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र सिंह ने बताया कि कोरोना और लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से कई अभिभावकों ने बच्चों की फीस नहीं भरी है, जिसकी वजह से ऑनलाइन क्लासेज चला रहे निजी स्कूलों को काफी आर्थिक तंगी से गुजरना पड़ रहा है। इसी वजह से बंद का निर्णय लिया गया है। कोरोना महामारी की वजह से कई सारे अभिभावकों की या तो नौकरी छूट गई है या फिर उनकी तनख्वाह को कम कर दिया गया है। इस समस्या की वजह से वे बच्चों की फीस समय से नहीं भर पा रहे हैं। इस वजह से स्कूलों का काफी नुकसान हुआ है। स्कूल अपने शिक्षकों को तनख्वाह भी नहीं दे पा रहे हैं। अब इस मसले में राज्य सरकार से हस्तक्षेप की उम्मीद की जा रही है।

पूरी फीस लेने पर अड़े हैं स्कूल 

कोरोना काल में सरकारी आदेश के बाद स्कूलों को भी बंद रखा गया था। बावजूद इसके स्कूल अभिभावकों से पूरी फीस की डिमांड कर रहे हैं। एक तरफ जहां स्कूलों से फीस कम करने की मांग की जा रही है। वहीं दूसरी तरफ स्कूल पूरी फीस लेने पर अड़े हुए हैं। इस प्रकार स्कूल प्रशासन और अभिभावक एक दूसरे के आमने सामने खड़े हो गए हैं। इस संदर्भ में पुणे महानगरपालिका के शिक्षा विभाग में एक मीटिंग भी आयोजित की गई थी, जिसमें कोई निर्णय नहीं निकल सका।बहरहाल कोरोना के चलते पुणे औऱ पिंपरी चिंचवड़ शहर में आगामी 3 जनवरी तक सभी स्कूलों को बंद रखने का आदेश मनपा प्रशासन ने दिया है।