nana patole
File Photo

मुंबई. सूचीबद्ध कार्यों के लिहाज से महाराष्ट्र विधानमंडल सत्र (Maharashtra Legislature session) की अवधि कम होने की मुख्य विपक्षी दल भाजपा (Opposition party BJP) की शिकायत पर विधानसभा के अध्यक्ष नाना पटोले (Assembly Speaker Nana Patole) से सोमवार को कहा कि बजट सत्र में कटौती नहीं हो, यह सुनिश्चित करने के लिए उचित दिशा-निर्देश तैयार किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि इतने कम अवधिक का सत्र ‘लोकतंत्र (Democracy) के लिए ठीक नहीं है।”

उल्लेखनीय है कि कोविड-19 (COVID-19) की वजह से विधानमंडल के शीतकालीन सत्र को छोटा कर दो दिनों का कर दिया गया है। सत्र सोमवार को छह अध्यादेशों और चार विधेयकों के पेश किए जाने के साथ शुरू हुआ। शीतकालीन सत्र की छोटी अवधि पर नाखुशी जाहिर करते हुए पटोले ने कहा कि कोविड-19 को लेकर उचित दिशानिर्देश तय किए जाने चाहिए ताकि आगामी बजट सत्र की अवधि छोटी नहीं करनी पड़े।

उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र विधानमंडल का बजट सत्र सामान्य तौर पर हर साल फरवरी से मार्च के बीच करीब छह हफ्तों का होता है। पटोले ने कहा, ‘‘सरकार और विपक्ष को साथ बैठकर दिशानिर्देश तय करने चाहिए।” (एजेंसी)