Reveals' RTI: Maharashtra government spent Rs 155 crore on campaigns
Photo: Twitter/@CMOMaharashtra

    मुंबई: देश में कोरोना (Corona) की दूसरी लहर से हुए नुकसान के बाद राज्य सरकारें किसी भी तरह की कोताही न बरतते हुए मेडिकल क्षेत्र में तैयारियां कर रही हैं। महाराष्ट्र (Maharashtra) में भी कोरोना की तीसरी लहर (Coronavirus Third Wave) को लेकर तैयारियों का दौर शुरू हो गया है। सीएम उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने बुधवार को एक मीटिंग की है जिसमें उन्होंने अधिकारियों से संभावित तीसरी लहर के लिए पर्याप्त मेडिकल सप्लाई रखने के निर्देश दिए हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक,  इस बैठक में महाराष्ट्र की कोविड टास्क फोर्स के अधिकारी और डॉक्टर्स भी शामिल थे। बताया जा रहा है कि, सीएम ने इस दौरान ग्रामीण इलाकों में दवाओं की व्यवस्था पर भी जोर दिया है और इसका समाधान निकालने को भी कहा। 

    मीटिंग में शामिल एक्सपर्ट्स और डॉक्टर्स ने ऐसे में सीरो सर्व करावाने की बात कही जिससे लोगों में कोविड एंटीबॉडीज का स्तर और वैक्सीनेशन होने की भी जानकारी मिल सकेगी। कई जानकारों ने भीड़ लगाने और स्वास्थ्य नियमों की अनदेखी करने को लेकर भी चेतावनी दी। सीएम ने पिछली लहरों से सीख लेने की बात पर जोर दिया।

    राज्य में वैक्सीनेशन पर ज़ोर

    महाराष्ट्र में वैक्सीन उपलब्धता और इसे लोगों को लगाने को लेकर भी मीटिंग में ज़ोर दिया गया। सीएम ने कहा कि, कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण जरूरी हिस्सा है, लेकिन मास्क पहनने, सफाई रखने और सोशल डिस्टेंसिंग समेत कोविड नियमों का पालन करना भी जरूरी है। इस बैठक में RT-PCR टेस्ट किट्स, दवाओं की खरीदी और उनके लिए फंड के प्रावधान को लेकर भी बात चीत हुई। 

    तीसरी लहार पर काबू पाने पर ज़ोर

    बैठक का एक अहम मुद्दा यह भी रहा कि, दूसरी लहर, पहली कोरोना वेव से अधिक खतरनाक रही, इसमें मरीजों की संख्या दोगुनी हो गई थी। अब जब नए डेल्टा प्लस वेरिएंट का खतरा मंडरा रहा है तो यह अनुमान लगाया जा रहा है कि, तीसरी लहर में मौजूदा आंकड़े दोगुने तक पहुंच सकते हैं। ऐसे में ज़्यादा सावधानी बरतनी होगी और साथ ही पूरी तैयारी करनी होगी।