File Photo
File Photo

    मुंबई. दक्षिण मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनल (सीएसटीएम) (CSTM) से मध्य रेलवे (Central Railway) के कसारा स्टेशन (Kasara Station) के बीच 100 किलोमीटर लंबे खंड पर बृहस्पतिवार दोपहर को 17 घंटे बाद रेल सेवा बहाल कर दी गई। अधिकारियों ने बताया कि भारी बारिश की वजह से पटरियों के बह जाने से इस खंड पर सेवाएं ठप हो गई थी। मध्य रेलवे (सीआर) के मुख्य प्रवक्ता शिवाजी सुतार ने बताया कि लंबी दूरी की रेलगाड़ियों को बहाल करने में कुछ समय लगेगा, फंसे हुए यात्रियों को ले जाने के लिए बसों की व्यवस्था की गई है।

    उन्होंने बताया कि सीएसटीएम और कसारा के बीच अपराह्न करीब तीन बजे सेवाएं बहाल की गई। उन्होंने बताया कि टिटवाला-कसारा खंड पर अंबरमाली स्टेशन के पास पटरी खिसक गई थी और पूर्वाह्न 11 बजे उसे ठीक कर लिया गया लेकिन कालू नदी के खतरे के निशान से ऊपर बहने की वजह से तत्काल इस खंड पर सेवाएं बहाल नहीं की गई। उन्होंने बताया कि पूरी रात हुई बारिश की वजह से कसारा से इगतपुरी के 14 किलोमीटर लंबे पहाड़ी इलाके में छह स्थानों पर भूस्खलन और पटरी पर चट्टाने गिरने की घटनाएं होने की सूचना मिली। मुंबई से उत्तर और पूर्वी भारत के लिए रेलगाड़ियां कसारा घाट से होकर जाती हैं।

    सुतार ने बताया कि इस मार्ग को ठीक करने के लिए एक खुदाई करने वाली मशीन, दो जेसीबी, मलबा उठाने के लिए 12 वाहन और 210 कर्मचारियों को सुबह से ही लगाया गया था। सुतार ने कहा, “घाट तक पहुंचने के लिए सड़के नहीं है। भारी बारिश और कई स्थानों पर पटरियों के क्षतिग्रस्त होने की वजह से रेलगाडियों का परिचालन और मुश्किल हो गया।”

    उन्होंने बताया कि शाम तक अप और डाउन लाइन को बहाल कर दिया जाएगा जबकि मध्य लाइन को बहाल करने में कुछ समय लगेगा। सुतार के मुताबिक कसारा घाट मार्ग में फंसी तीन रेलगाड़ियों को इगतपुरी ले जाया गया है। इन यात्रियों के लिए मध्य रेलवे ने एमएसआरटीसी की बसों की व्यवस्था की है।

    उन्होंने बताया कि 29 बसों से 1290 यात्रियों को कसारा से कल्याण रवाना किया गया जबकि 44 बसों की व्यवस्था 2860 यात्रियों को इगतपुरी से कल्याण ले जाने के लिए की गई। मध्य रेलवे के मुख्य प्रवक्ता शिवाजी सुतार ने बताया कि मध्य रेलवे की उपनगरीय ट्रेन सेवाएं बुधवार रात से दक्षिण मुंबई में छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसएमटी) से पड़ोस के ठाणे जिले में केवल अंबरनाथ स्टेशन और टिटवाला तक चल रही हैं।

    उन्होंने बताया कि भारी बारिश के कारण इस रेलवे खंड पर विभिन्न स्थानों पर रेलवे पटरियां बह जाने, पत्थरों के गिरने और बाढ़ एवं मिट्टी धंसने के बाद तितवाला से इगतपुरी (ठाणे से सटे नासिक जिले में) मार्ग पर बुधवार रात करीब सवा दस बजे और अंबरनाथ से पड़ोस के पुणे जिले में लोनावला तक ट्रेन परिचालन बुधवार देर रात 12.20 बजे रोक दिया गया था। (एजेंसी)