vaccine
Representational Pic

पुणे. महामारी कोरोना के संकटकाल में दुनियाभर में वैक्सीन का किया जा रहा इंतजार अब खत्म होने को है। वैक्सीन को लेकर चल रही चर्चा के बीच कई देशों में अब कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) लगनी शुरू हो गई हैं। इस कड़ी में रूस की स्पुतनिक वैक्सीन (Sputnik Vaccine) के क्लीनिकल ट्रायल (Clinical trial) का दौर भारत में भी शुरू हो गया है। पुणे में 17 लोगों को स्पुतनिक वैक्सीन लगाई गई है। सभी को अगले कुछ दिन तक निगरानी में रखा गया है।

नोबल अस्पताल में परीक्षण जारी

पुणे के नोबल अस्पताल में मानव परीक्षण के तहत 17 वॉलंटियर्स को कोरोना का प्रतिबंध करने वाला रूस का स्पुतनिक टीका लगाया गया है। इस क्लीनिकल ट्रायल (Clinical trial)  के लिए 27 स्वयंसेवकों ने ऑनलाइन पंजीकरण द्वारा अपने नाम पंजीकृत किए थे। 27 में से सभी परीक्षण से गुजरे, जिसमें से केवल 17 लोगों के परीक्षण को मंजूरी दी गई। इन 17 में से किसी को भी कोई लक्षण नहीं था, न ही इनमें कोई कोरोना पॉजिटिव (Corona positive) पाया गया। सभी का चयन उन निर्धारित मानदंडों के अनुसार किया गया था, जिसके अनुसार टीका लगाए जाने वाले व्यक्तियों का स्वस्थ रहना जरूरी था। जिन्हें टीका लगाया गया है, वे सभी अगले कुछ दिन तक निगरानी में रहेंगे।

इस प्रकार नोबेल अस्पताल (Nobel Hospital) में वैक्सीन के फेज 2 ट्रायल की शुरुआत हो गई है। बता दें कि यह स्पुतनिक टीका गामालेया नेशनल रिसर्च सेंटर फॉर एपिडेमियोलोजी एंड माइक्रोबायोलॉजी और रूसी डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) द्वारा मिलकर विकसित किया गया है।