deshmukh
File Pic

    मुंबई. एक बड़ी खबर के अनुसार तलोजा जेल में बंद मुंबई पुलिस के निलंबित अधिकारी सचिन वाजे (Sachin Waze) ने विशेष NIA अदालत में अब जमानत (Bail) Request) याचिका दायर की है। इसके साथ ही उन्होंने अदालत से उन्हें जमानत पर रिहा करने का अनुरोध भी किया है। गौरतलब है कि  NIA उनकी गिरफ़्तारी के 90 दिनों के भीतर अब तक चार्जशीट भी दाखिल नहीं कर पाई है। इस के चलते उन्होंने अदालत से अनुरोध किया है कि उन्हें जमानत पर रिहा किया जाए।

    अनिल देशमुख की 4 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति कुर्क:

    गौरतलब है कि इसके पहले बीते शुक्रवार को महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) के खिलाफ जारी जांच के बीच ED ने बड़ी कार्रवाई करते हुए अनिल देशमुख की 4 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति कुर्क की थी। तब यह बताया गया था कि, उक्त कार्रवाई अनिल देशमुख के खिलाफ जारी मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering) केस के तहत की गई है। 

    बता दें कि ED  द्वारा पूछताछ के लिये भेजे गए कम के कम तीन समन के बावजूद देशमुख (72) जांच एजेंसी के सामने पेश नहीं हुए थे। तब केंद्रीय एजेंसी ने उनके बेटे ऋषिकेश और पत्नी को भी समन किया था लेकिन उन्होंने भी बयान दर्ज कराने से इनकार कर दिया था। ये समन महाराष्ट्र पुलिस से संबंधित 100 करोड़ रुपये के कथित घूस-सह-वसूली मामले के संबंध में PMLA के तहत दर्ज मामले के सिलसिले में जारी किए गए थे। इसी मामले के चलते देशमुख को इस साल अप्रैल में अपने पद से इस्तीफा भी देना पड़ा था।

    पता हो कि मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने देशमुख पर 100 करोड़ की वसूली का आरोप लगाया हुआ है। उन्होंने यह भी कहा था कि जब मुंबई पुलिस के निलंबित अधिकारी सचिन वाजे से यह बातें होती थी तब अनिल देशमुख के पर्सनल सेक्रेट्री संजीव पलांडे भी कमरे में मौजूद रहा करते थे।

    इस मुद्दे पर पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के विरुद्ध दर्ज धनशोधन के एक मामले के संबंध में प्रवर्तन निदेशालय ने सचिन वाजे का बयान दर्ज किया था। दरअसल कारोबारी मुकेश अंबानी के आवास एंटीलिया के बाहर एक एसयूवी कार मिलने और मनसुख हिरन हत्याकांड मामले में गिरफ्तार होने के बाद सचिन वाजे न्यायिक हिरासत में जेल में है। जिसको लेकर अब उन्होंने अदालत से उन्हें जमानत पर रिहा करने के लिए जमानत याचिका दायर की है।