suman-dhamne-maharashtra-ahmednagar-aapli-aaji-youtube-channel

यूट्यूब पर उनके चैनल ‘आपली आजी’ पर 6.5 लाख सब्सक्राइबर (Subscriber) हैं।

मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) के अहमदनगर (Ahmednagar) में रहने वाली 70 वर्षीय सुमन धामने (Suman Dhamne) आज इंटरनेट सेंसेशन बन गई हैं। उन्होंने अपनी ‘पाक कला’ की विशेषता से आज यह मुकाम हासिल किया है। सुमन (Suman Dhamne) कभी स्कूल नहीं गईं। लेकिन, यूट्यूब पर उनके चैनल ‘आपली आजी’ पर 6.5 लाख सब्सक्राइबर (Subscriber) हैं। तो चलिए आज हम जानते हैं सुमन धामने (Suman Dhamne) के बारे में…

सुमन धामने (Suman Dhamne) महाराष्ट्र (Maharashtra) के अहमदनगर (Ahmednagar) से करीब 10 किलोमीटर दूर सरोला कसार (Sarola Kasar) गांव में रहती हैं। वह केवल मराठी भाषा में ही बोलती हैं। लेकिन, उन्होंने अपने खाना बनाने के हुनर से आज करोड़ो लोगों का दिल जीता है। सुमन (Suman Dhamne) पारंपरिक स्वाद में घर के बने मसालों के साथ महाराष्ट्रीयन डिशेज बनाती हैं। बता दें कि सुमन अब तक अपने चैनल पर 150 रेसिपी के वीडियो शेयर कर चुकी हैं। 

लॉकडाउन के समय सुमन (Suman Dhamne) सोशल मीडिया पर काफी चर्चा में थीं। कई लोग सुमन की बनाई डिशेज़ को घर पर ट्राई कर रहे थे। लोगों को सुमन का मराठी भाषा में रेसिपी बताना भी काफी अच्छा लगा। सुमन  (Suman Dhamne) के यूट्यूब चैनल बनाने के पीछे उनके पोते यश पाठक (Yash Pathak) का हाथ है। सुमन बताती हैं कि, उन्हें यूट्यूब के बारे में कुछ भी नहीं पता था। उन्होंने कभी सोचा नहीं था कि उनका भी यूट्यूब चैनल होगा और वह सोशल मीडिया पर अपनी रेसिपी को मराठी में सबके सामने बताएगी।  

सुमन (Suman Dhamne) का पोता यश 11 वीं क्लास में पढ़ता है। यश ने बताया कि एक दिन उसने अपनी दादी को पाव भाजी बनाने को कहा था। दादी ने कहा कि मुझे यह सब बनाना नहीं आता। तब मैंने दादी को सोशल मीडिया पर कुछ रेसिपी के वीडियो दिखाए। वीडियो देखने के बाद दादी ने मुझसे कहा कि वह इससे भी अच्छी पाव भाजी बना सकती हैं। उस दिन दादी ने वाकई में बहुत शानदार पाव भाजी बनाई थी। घर में सभी ने दादी की बनाई हुई पाव भाजी बड़े चाव से खाई। सबको वह पाव भाजी बेहद पसंद आई थी। इसके बाद मुझे दादी का  यूट्यूब चैनल शुरू करने का विचार आया।

यश (Yash Pathak) ने आगे बताया कि, ‘मैं 8वीं क्लास से ही अपना यूट्यूब चैनल चला रहा था। लेकिन, मैं उसमें बेहद कम वीडियो डालता था। दादी का यूट्यूब चैनल बनाने ले लिए मैंने पहले प्लानिंग की। उसके बाद नवंबर 2019 को मैंने एक यूट्यूब चैनल बनाया। इस चैनल में मैंने कुछ वीडियो अपलोड किये। इसके बाद अगले महीने यानि दिसंबर 2019 को हमने ‘करेले की सब्जी’ का एक वीडियो अपलोड किया था। इस वीडियो को कुछ दिनों में एक मिलियन से ज्यादा व्यूज मिले (अब इस पर 6 मिलियन से भी ज्यादा व्यूज हैं)। इसके बाद हम एक के बाद एक अलग अलग डिशेज के वीडियो इस चैनल पर अपलोड करने लगे। 

सुमन (Suman Dhamne) ने बताया कि वह पहले कैमरे के सामने आने से डरती थीं। लेकिन, धीरे धीरे उनका डर ख़त्म हो गया। सुमन कई सालों से पारंपरिक मराठी भाषा बोलती थीं। इसलिए उन्हें इंग्लिश के कुछ शब्द बोलने में दिक्कत हो रही थी। ऐसे में उनके पोते ने उनकी मदद की। यश ने अपनी दादी को सॉस, बेकिंग पाउडर, कैचअप, मिक्सचर जैसे इंग्लिश शब्द बोलने सिखाए। वहीं, सुमन ने भी महज 1 हफ्ते में यह सारे शब्द सिख लिए। 

यश ने बताया कि, हमारे चैनल पर तीन महीनों में एक लाख सब्सक्राइबर हो गए थे। लोगों को हमारा चैनल काफी पसंद आने लगा। इसके चलते आज हमारे चैनल पर 6.5 लाख सब्सक्राइबर हैं। वहीं, दादी-पोते की जोड़ी को यूट्यूब की ओर से ‘सिल्वर प्ले’ बटन भी मिला है। खास बात यह है कि इस चैनल के जरिए दादी की हर महीने  डेढ़ से 2 लाख रुपए की कमाई होती है।